वाराणसी : क्राइम ब्रांच और सिगरा पुलिस को छापेमारी में दो हजार मिलावटी सेनेटाइजर बरामद, आरोपी गिरफ्तार – वाराणासी

वाराणसी : क्राइम ब्रांच और सिगरा पुलिस को छापेमारी में दो हजार मिलावटी सेनेटाइजर बरामद, आरोपी गिरफ्तार

क्राइम ब्रांच और सिगरा पुलिस की शनिवार तीसरे पहर सोनिया से औरंगाबाद के बीच तीन गोदामों में हुई छापेमारी में दो हजार मिलावटी सेनेटाइजर बरामद हुआ। असली सेनेटाइजर में मिलावट करते मौके से 11 लोग पकड़े गए हैं।

मौके से भारी मात्रा में रैपर, बॉटल, नॉजल्स भी बरामद हुए हैं। इस गोरखधंधा का मास्टर माइंड गाजीपुर के बिरनो का रामाश्रय चौहान भी हिरासत में लिया गया है। वह कई माह से बाहर से सेनेटाइजर मंगाकर यहां मिलावट करवाता रहा है।

पुलिस की टीमें बाजार में नकली सेनेटाइजर बिक्री की सुरागशी में लगी हैं। इस क्रम में सोनिया के गुजराती गली के समीप एक मकान में सेनेटाइजर के अवैध भंडारण और रीफिलिंग की सूचना पर क्राइम ब्रांच प्रभारी अश्विनी पांडेय और सिगरा थाना प्रभारी अनूप कुमार शुक्ला ने टीम के साथ छापेमारी की।

वहां रामाश्रय चौहान की मौजूदगी में कुछ लोग छोटी बोतल व गैलन में सेनेटाइजर भरते मिले। कर्मचारियों से पूछताछ के आधार पर सोनिया-औरंगाबाद मार्ग स्थित दो अन्य ठिकानों से भी सैकड़ों लीटर नकली सेनेटाइजर बरामद हुआ।।

मौके पर असिस्टेंट कमिश्नर ड्रग्स केजे गुप्ता, ड्रग इंस्पेक्टर सौरभ दुबे पहुंचे। जांच में सेनेटाइजर में पानी व अन्य केमिकल के मिलावट की पुष्टि हुई।

इंदौर और चारबाग से मंगाया था सेनेटाइजर
औषधि प्रशासन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि थोक में सेनेटाइजर छोटे ड्रमों में लखनऊ के चारबाग और मध्य प्रदेश के इंदौर से मंगाया गया था। यहां उसकी छोटे गैलन और छोटे बोतलों में रीफीलिंग की जाती थी। बोतलों पर इंदौर की नामी कंपनी के रैपर लपेटे गये थे।

नहीं था कोई लाइसेंस
असिस्टेंट कमिश्नर ड्रग्स केके गुप्ता ने बताया कि संचालक के पास कोई लाइसेंस नहीं है। सुरक्षा का कोई मानक नहीं मिला। सेनेटाइजर में केमिकल और पानी मिलाकर भरा जा रहा था।

डीसीपी वरुणा जोन विक्रांत वीर ने बताया कि 11 लोगों को हिरासत में लिया गया है। औषधि विभाग की जांच के बाद मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

Vairochan Media (Opc) Private Limited

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]