यूपी के बहराइच में एक साल में जन्मा तीसरा क्लोडियन बेबी

यूपी के बहराइच में एक साल में जन्मा तीसरा क्लोडियन बेबी

Plz share with love

बहराइच. जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में एक बच्चे के जम्म के बाद उसके परिजन ही नहीं बल्कि अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक भी आश्चर्यचिकित हैं।

नार्मल डिलीवरी से पैदा हुए बच्चे के शरीर पर चमड़े की स्किन के जगह प्लास्टिक की स्किन साफ साफ देखी जा सकती है। बच्चे को डाक्टरों की विशेष देखरेख में रखा गया है।

काफी जांच के बाद एक्सपर्ट डॉक्टर्स इसे क्लोडियन बेबी बता रहे हैं। चिकित्सको ने बताया की ऐसी घटनाएं बहुत दुर्लभ होती है। चिकित्सक विज्ञान में इसे क्लोडियन बेबी कहा जाता है।

सबसे पहले समाचार पाने के लिए लाइक करें

भले ही चिकित्सक इसे दुर्लभ मानते है लेकिन जिले में ये इस वर्ष तीसरी घटना है

जिले के मोतीपुर इलाके की माजिदा को प्रसव पीड़ा होने के बाद बुधवार को उन्हें स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती करवाया गया।

जहां उन्होंने एक बच्चे को जन्म दिया। बच्चे की शक्ल सूरत को देख परिजन ही नही डॉक्टर्स भी डर गए। लेकिन काफी देर तक जांच परख के बाद बच्चे के परिजन बच्चे को लेकर बहराइच पहुंचे और जिला अस्पताल में भर्ती करवाया।

जिला अस्पताल के चाइल्ड स्पेशलिस्ट डाक्टर के के वर्मा भी बच्चे की स्थिति को देखकर हतप्रभ रह गए। 

कलोडीयन बेबी का इलाज कर रहे डाक्टर के के वर्मा ने बताया कि इस तरह के बच्चे बहुत संवेदनशील शील होते हैं।

संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है इनके भीतर बीमारियों से लड़ने की क्षमता बहुत कम होती है। इसी वजह से ऐसे बच्चे को आम बच्चों से दूर और बेहद निगरानीपूर्ण रखा जाता है ताकि इन्हें बचाया जा सके। 

इस तरह के बच्चों का इम्युनल सिस्टम बहुत कमजोर होता है । जिला अस्पताल के लाइफ सपोर्ट सिस्टम में रखा ये क्लोडीयन बेबी डाक्टरों के लिए एक चैलेंज भी बना हुआ है। चूंकि इस तरह के बच्चे को बचाना पाना काफी मुश्किल का काम होता है

रिपोर्ट : फ़राज़ अंसारी बहराइच


Plz share with love

अपने क्षेत्रीय और जनपदीय स्तर की सभी घटनाओ से जुड़े अपडेट पाने के लिए - सोशल मीडिया पर हमे लाइक, सब्सक्राइब और फॉलो करें -

फेसबुक के लिए यहाँ क्लिक करें

ट्विटर के लिए यहाँ क्लिक करें

यूट्यूब चैनल के लिए

Subscribe To Our Newsletter