अमेठी मतगड़ना में झोलझाल : दोबारा काउंटिंग में हारा हुआ प्रत्याशी जीत गया। – अमेठी

अमेठी मतगड़ना में झोलझाल : दोबारा काउंटिंग में हारा हुआ प्रत्याशी जीत गया।

उत्तर प्रदेश के अमेठी में पंचायत चुनाव के मतों की गिनती में बड़ी लापरवाही सामने आई है। यहां मतगणना में उन बूथों को भी शामिल कर लिया गया जो वार्ड में थे ही नहीं।

नतीजा परिणाम घोषित होने के 6वें दिन शनिवार को जीता उम्मीदवार हार गया। प्रशासन ने उस वक्त हारे प्रत्याशी को जीत का प्रमाण पत्र दिया।

मामला वार्ड-28 का है। अब इस मामले में सियासत शुरू हो गई। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने तंज कसते हुए कहा, घोर कलियुग है। प्रशासन भी सरकार की तर्ज पर काम कर रहा है। मगर जनता कह रही है कि वह 2022 में भाजपा को सत्ता में लाने की गलती नहीं करेगी।

कर लो जिनती गलती करनी है

अखिलेश यादव ने लिखा, उत्तर प्रदेश अमेठी में प्रशासन द्वारा कुछ दिनों बाद चुनाव परिणाम ये कहते हुए बदल दिया गया कि गलती से दूसरे वार्ड के वोट के गिन लिए गए थे। ये घोर कलयुग है। भाजपा सरकार से जनता कह रही है कर लो जितनी गलती करनी है, पर अब 2022 में हम गलती नहीं करेंगे।

नीलम यादव जीतकर हार गईं

दरअसल, शनिवार को प्रशासन ने वार्ड नंबर 28 से कृष्णा चौरसिया पत्नी घनश्याम चौरसिया को जिला पंचायत सदस्य के पद की जीत का प्रमाण पत्र जारी किया। वे 228 वोटों से जीतकर जिला पंचायत सदस्य बनी हैं। इससे पहले प्रशासन ने नीलम यादव को विजयी घोषित किया था। उन्हें 4 मई को प्रमाण पत्र दिया गया था।

Vairochan Media (Opc) Private Limited

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]