आरक्षण ख़तम करने के लिए आरएसएस भाजपा एक ही है : आरजेडी प्रवक्ता भाई वीरेन्द्र – लोकप्रिय ख़बरें

आरक्षण ख़तम करने के लिए आरएसएस भाजपा एक ही है : आरजेडी प्रवक्ता भाई वीरेन्द्र

आरक्षण को लेकर राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) के बयान पर बिहार में राजनीति गर्म हो गई है। खास बात यह कि इस मुद्दे पर राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) में मतभेद उजागर हो गया है।

एनडीए में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के सहयोगी जनता दल यूनाइटेड (JDU) ने मोहन भागवत के बयान के विरोध में विपक्षी महागठबंधन (Grand Alliance) व उसके प्रमुख घटक राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) का साथ दिया है।

बिहार विधानसभा (Bihar Assembly) में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) ने भागवत के बयान के पीछे छिपी मंशा पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा आरक्षण को लेकर आरएसएस व बीजेपी की मंशा ठीक नहीं है।

तेजस्‍वी ने कहा है कि बहस इस बात पर हो कि इतने वर्षों बाद भी केंद्रीय नौकरियों में आरक्षित वर्गों के 80 फीसद पद ख़ाली क्यों है? उनका प्रतिनिधित्व सांकेतिक भी नहीं है? केंद्र में एक भी सचिव अन्‍य पिछड़ा या आर्थिक पिछड़ा वर्ग से क्यों नहीं है? कोई कुलपति अनुसूचित जाति-जनजाति या अति पिछड़ा वर्ग से क्यों नहीं है?

इस बीच जेडीयू नेता व बिहार सरकार में मंत्री श्‍याम रजक ने आरएसएस को आरक्षण पर चर्चा बंद करने की नसीहत दी

मोहन भागवत के बयान पर एनडीए में बीजेपी के सहयोगी जेडीयू के नेता और बिहार सरकार में मंत्री श्‍याम रजक (Shyam Rajak) ने कहा है कि आरएसएस को आरक्षण पर चर्चा बंद कर देनी चाहिए। इसपर जब भी चर्चा की बात होती है, देश का दलित कई तरह की आशंकाओं से घिर जाता है।

श्याम रजक ने आरएसएस (RSS) की नीयत पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि जिस संगठन के लोग आरक्षण की बात करते हैं, वे पहले यह बताएं कि उसमें कितने लोग आरक्षित हैं?

आरक्षण दलितों के लिए था, लेकिन फायदा किन लोगों को मिल रहा है? श्याम रजक ने कहा कि जब नीयत ही साफ नहीं है तो इस तरह की चर्चा बंद कर दी जानी चाहिए।

बीजेपी ने जेडीयू पर किया पलटवार

जेडीयू नेता श्याम रजक के बयान पर बीजेपी ने भी कड़ी प्रतिक्रिया दी है। बीजेपी नेता और विधायक नितिन नवीन ने कहा है कि आरएसएस देश के विकास व समाज के हर वर्ग के लिए काम करता है। इसलिए कोई कुछ भी बोले, फर्क नहीं पड़ता है। आरएसएस को किसी के सर्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं है।

आरजेडी सांसद बोले- आग से खेलने की कोशिश न करे आरएसएस

इसके पहले आरजेडी सांसद मनोज झा ने कहा कि आरक्षण को लेकर आग से खेलने की कोशिश हो रही है। ऐसा हुआ तो लोग सड़कों पर उतरेंगे और सौहार्दपूर्ण माहौल की चर्चा ही खत्म हो जाएगी। केवल बहुमत के आधार पर सभी बातों को नकारा नहीं जा सकता है।

आरक्षण की मंजिल अभी दूर है। उन्‍होंने कहा कि संसदीय बहुमत और नैतिकता में काफी फर्क है। देश का संविधान नैतिकता व बहुमत की नोंक पर है। मनोज झा ने कहा कि आरक्षण पर चर्चा में दिक्कत है, क्‍योंकि देश में सौहार्दपूर्ण माहौल है ही नहीं।

पिछड़ों और आदिवासियों को अभी तक उनका हक ही नहीं मिला है। आंशिक तौर पर जो मिला है, उसकी भी समीक्षा की बात की जा रही हैं।

आरक्षण से छेड़छाड़ हुई तो जन-आंदोलन

आरजेडी प्रवक्ता भाई वीरेन्द्र ने भी कहा कि आरएसएस और बीजेपी एक ही हैं। उन्होंने कहा कि गरीबों के हित के लिए आरक्षण लाया गया है, ताकि इससे पिछड़े वर्ग के लोग मुख्य धारा में बने रहें। लेकिन मोहन भागवत के बयान से साफ झलकता है कि वे आरक्षण को खत्म करने में लगे हैं।

अगर आरक्षण के साथ थोड़ी भी छेड़छाड़ की गई तो जनआंदोलन होगा, लोग सड़कों पर उतर कर क्रांति करेंगे। कहा कि मोहन भागवत जान-बूझकर आरक्षण पर बहस करना चाहते हैं, ताकि आरक्षण समाप्त हो जाए।
आरक्षण के लिए लोग देंगे कुर्बानी

हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (HAM) के प्रदेश प्रवक्ता विजय यादव ने कहा कि अगर आरक्षण से जरा भी छेड़छाड़ की गई तो हजारों लोग कुर्बानी देंगे। उन्होंने भागवत को चेतावनी देते हुए कहा कि आरक्षण खत्म हो गया तो देश के लोग शांत बैठने वाले नहीं है। सड़कों पर लोगों की जन-क्रांति देखने को मिलेगी।

Vairochan Media (Opc) Private Limited

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]