हाथरस रेप कवर करने वाले पत्रकार सांप्रदायिक तो पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम को जिहादी बताने वाले देश भक्त कैसे ? – News

हाथरस रेप कवर करने वाले पत्रकार सांप्रदायिक तो पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम को जिहादी बताने वाले देश भक्त कैसे ?

हाथरस रेप कवर करने गए पत्रकार सिद्दीकी कप्पन के खिलाफ आतंकवाद विरोधी कानून के तहत दायर की चार्जशीट। हाथरस में दलित महिला के साथ कथित गैंगरेप और मौत के मामले में जांच कर रही उत्तर प्रदेश पुलिस ने केरल के पत्रकार सिद्दीकी कप्पन (Siddique Kappan) के खिलाफ 5,000 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की है।

घटना को रिपोर्ट करने के लिए दिल्ली से हाथरस जाते वक्त सिद्दीकी कप्पन को पिछले साल अक्टूबर में गिरफ्तार किया गया था। इस मामले में पीड़िता की दिल्ली के एक अस्पताल में मौत हो गई थी।

कप्पन के अलावा, सात अन्य गिरफ्तार लोगों पर भी यूएपीए (UAPA) यानी गैर-क़ानूनी गतिविधियां (रोकथाम) कानून के तहत चार्जशीट फाइल की गई है। इन पर सांप्रदायिक तनाव पैदा करने के लिए साजिश रचने का आरोप है। सात लोगों में से तीन को कप्पन के साथ गिरफ्तार किया गया था जबकि अन्य को बाद में गिरफ्तार किया गया।

अब सवाल यह है रेप की घटना कवर करने गए पत्रकार को सांप्रदायिक तनाव पैदा करने के आरोप में गैर-क़ानूनी गतिविधियां (रोकथाम) कानून के तहत चार्जशीट फाइल की गई है फिर बीते दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें डासना देवी मंदिर के पुजारी ने पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम को धर्म के कारण जिहादी बताया है। तो यह क्या सांप्रदायिक तनाव नहीं पैदा करता है ?

कप्पन और तीन अन्य लोगों को उस समय गिरफ्तार किया गया जब वे हाथरस पीड़िता के साथ कथित सामूहिक बलात्कार की घटना को रिपोर्ट करने के लिए हाथरस जा रहे थे, जिसकी बाद में अस्पताल में मौत हो गई। उन पर आतंकवाद विरोधी कानून के तहत कार्रवाई की गई। यूपी पुलिस ने कहा कि वे “संदिग्ध लोगों” की टिप पर काम कर रहे थे।

Vairochan Media (Opc) Private Limited

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]