बाँदा : महामारी से लाशों में तब्दील होता शहर – बाँदा

बाँदा : महामारी से लाशों में तब्दील होता शहर

-उत्तर प्रदेश के बांदा में कोरोना महामारी से लगातार ग्रसित होकर मौत के मुंह में समाते जा रहे हैं शहर में बने तमाम श्मशान घाट व कबरिश्तानों में लाशों का अंबार लगा हुआ है वहां पर इन लाशों को जलाने तक का इंधन उपलब्ध नहीं हो पा रहा है और यहां तक कि महामारी से मरने वालों के परिजन उनका चेहरा देखने के लिए तक तरश रहे हैं। अब अगर जनपद में कोरोना महामारी से मरने वाले लोगों की संख्या का सही आंकड़ा तक नही बताने तैयार है।

जनपद में महामारी के चलते इतनी अव्यवस्था फैली हुई है कि लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। यहाँ पर अस्पतालों में डॉक्टरों के द्वारा अपनी मनमानी चलाने का काम किया जा रहा है।

मरीजों के परिजनों को उनसे मिलने तक नही दिया जा रहा है और जब उनकी मौत हो जाती है तब उनके परिजनों को सूचित कर दिया जाता है लेकिन उसके बाद भी मृतक का चेहरा उनके परिजनों को नही दिखाया जाता है। इसी को लेकर सुबह से शाम तक डॉक्टरों और परिजनों में विवाद होता रहता है। अगर जनपद में कोरोना से मरने वाले मरीजों की बात करें तो अब तक लगभग 50 लोग मर चुके हैं। लेकिन जिला प्रशासन के आंकड़ों की बात करें तो यहाँ पर सभी आकड़ें छिपाने में लगा हुआ है।

आज शाम जब हमने शहर के शमशानों में जा कर देखा तो वहां पर लाशों को जलाने वाले तक नहीं थे । बा मुश्किल कुछ लोग वहां मिले तो उनसे जानकारी ली तो उन्होंने बताया कि यहां पर लाशों का अंबार लगा हुआ है अभी तो इतनी लाशें जल रही हैं उतनी ही लाशें अभी और जलाने के लिए पड़ी हुई हैं। सुबह से तमाम लोगों ने कोरोना से अपना दम तोड़ दिया है।

इल्यास खान
बाँदा

Vairochan Media (Opc) Private Limited

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]