बहराइच : आदमखोर तेंदुए का आतंक बरकरार 8 साल के मासूम को बनाया निवाला – बहराईच

बहराइच : आदमखोर तेंदुए का आतंक बरकरार 8 साल के मासूम को बनाया निवाला

प्रतीकात्मक फोटो

खैरीघाट थाना क्षेत्र के चौकसाहार गांव में घर के आंगन में खेल रही आठ वर्षी शिवानी पुत्री त्रिलोकी को तेंदुए ने निवाला बना लिया। हादसे के बाद परिवारजन में कोहराम मचा हुआ है।

चार दिन पूर्व भी पांच वर्षीय बालक रवि को भी तेंदुए ने निवाला बनाया था। घटना से ग्रामीणों में आक्रोश व्यापत है। जानकारी पाकर चीफ वन संरक्षक रेनू सिंह व कंजरवेटर डॉ. अनिरूद्ध पांडेय ने घटनास्थल का जायजा लिया।

डीएफओ मनीष सिंह ने बताया कि तेंदुए को पकड़ने के लिए पिंजडे लगाए जा रहे है। ड्रोन कैमरों से तेंदुए की निगरानी भी की जा रही है। ग्रामीणों को सर्तक करने के लिए वन विभाग की गाड़ी गांव-गांव घूमकर लोगों से अकेले बच्चों को आंगन में न छोडने के अपील कर रही है।

लगेंगे पिंजड़े : आदमखोर हो चुके तेंदुए को पकड़ने के लिए बेलामकन , पिपरिया, रायगंज व चौकसाहार समेत चार स्थानों पर पिंजड़े लगाने की कवायद शुरू की गई है।

ड्रोन कैमरे द्वारा तेंदुए पर नजर : डीएफओ ने बताया कि तेंदुए पर नजर रखने के लिए ड्रोन कैमरों का इस्तेमाल किया जा रहा है। पूरे इलाके में आसमान से मंडराता ड्रोन कैमरा पल पल तेंदुए की लोकेशन का पता लगा रहा है।

तीन टीमों का गठन : दो बच्चों को मौत के घाट उतारने वाले तेंदुए को पकड़ने के लिए तीन टीमें गठित की गई है। तीनों टीमों में अलग-अलग रेंतर शामिल किए गए है। सभी टीमों की निगरानी एसडीओ नानपारा को सौपी गई है।

30 वनकर्मियों को भी तैनात किया गया : सरयू नदी से सटे गांवों में हुई घटनाओं के बाद वन विभाग ने नदी किनारे आने वाले तकरीबन दस ग्राम पंचायतों में तीन-तीन वनकर्मियों को तैनात किया है जो ग्रामीणों को जागरूक करने का काम करेंगे।

दो गाडि़यों से कराया जा रहा एनांउस : ग्रामीणों को तेंदुए से बचाव करने के साथ बच्चों का ध्यान कैसे रखना इन बाताें की जानकारी देेने के लिए वन विभाग ने दो गाड़ियों को लगाया है जो इलाके में लोगो को सुरक्षा के टिप्स भी दे रही है।

Vairochan Media (Opc) Private Limited

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]