आगरा : एयरफोर्स स्टेशन में गैरेज से पकड़ा सात फुट लंबा सांप – आगरा

आगरा : एयरफोर्स स्टेशन में गैरेज से पकड़ा सात फुट लंबा सांप

आगरा के एयरफोर्स स्टेशन परिसर के अंदर एक गैरेज से वाइल्डलाइफ एसओएस रैपिड रिस्पांस यूनिट ने सात फुट लंबा रैट स्नेक पकड़ा। सांप को कुछ घंटों तक निगरानी में रखा गया और बाद मे जंगल में छोड़ दिया गया।

हरे भरे जंगल से घिरा, आगरा एयरफोर्स स्टेशन जंगली जानवरों की उपस्थिति से अनजान नहीं है।

गुरुवार की सुबह, परिसर के अंदर रहने वाले एक परिवार को उनके गैरेज में रैट स्नेक दिखाई दिया। उन्होंने तत्काल सहायता के लिए हेल्पलाइन (+91 9917109666) पर वाइल्डलाइफ एसओएस को इसकी जानकारी दी।

वन्यजीव संरक्षण संस्था की दो सदस्यीय टीम को जल्द ही स्थान पर भेजा गया। पहुंचने पर, टीम ने सात फुट लंबे सांप को सुरक्षित रूप से पकड़ कर कपड़े के बैग में स्थानांतरित कर दिया। रैट स्नेक को कुछ समय के लिए निगरानी में रखा गया और बाद में संरक्षित जंगल में छोड़ दिया गया।

वाइल्डलाइफ एसओएस के सह-संस्थापक और सीईओ कार्तिक सत्यनारायण ने कहा, “अधिक गर्मी, अक्सर सांपों को राहत पाने के लिए उनके प्राकृतिक आवास से बाहर निकलने पर मजबूर करती है। हमारी टीम हर दिन ऐसी अनेक सांप से जुड़ी कॉल्स का जवाब देने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रही है। हमारी टीम कोबरा और कॉमन क्रेट जैसे बेहद जहरीले सांपों से लेकर गैर-विषैले सांप जैसे सैंड बोआ, वुल्फ स्नेक और रैट स्नेक रोज़ाना बचा रही है।

वाइल्डलाइफ एसओएस के डायरेक्टर कंज़रवेशन प्रोजेक्ट्स, बैजूराज एम.वी, ने कहा, “सांप एक्टोथर्मिक होते हैं, जिसका अर्थ है कि उन्हें अपने शरीर के तापमान को नियंत्रित करने के लिए बाहरी स्रोतों का उपयोग करने की आवश्यकता होती है। इसलिए, गर्मी के दिनों में, वे शांत रहने के लिए छाया और आश्रय की तलाश करते हैं। हमारी टीम कई सांपों सेड जुड़ी कॉल का जवाब दे रही है और संख्या अभी भी बढ़ रही है।

रैट स्नेक, जिसे ओरिएंटल रैट स्नेक के रूप में भी जाना जाता है, आमतौर पर शहरी क्षेत्रों में भी पाए जाते हैं। यह एक गैर विषैली सांप की प्रजाति है और इसे उत्तरी भारत में ‘धमन’ के नाम से भी जाना जाता है। वे मुख्य रूप से कृन्तकों, पक्षियों और छोटे जानवरों सहित विभिन्न प्रकार के शिकार को अपना आहार बनाते हैं और अक्सर प्राकर्तिक आवास में शिकार की कमी के कारण मानव आवास में भटक जाते हैं। रैट स्नेक एक गैर-विषैली सांप की प्रजाति है, क्योंकि यह कोबरा सांप से समान और आमतौर पर बड़े आकार के होते है, इसलिए इन्हें भी लोग अक्सर विषैला मान लेते हैं।

वाइल्डलाइफ एसओएस टीम ने आगरा के एमजी रोड स्थित भगत विला परिसर से एक वुल्फ स्नेक और बिचपुरी में एक घर के बगीचे से रैट स्नेक को भी बचाया।

Vairochan Media (Opc) Private Limited

Latest Post

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]