अहमदाबादः 'असहयोग आंदोलन' से कर रहे सीएए का विरोध, घर के बाहर लिखा, 'कागज नहीं दिखाएंगे'

अहमदाबादः ‘असहयोग आंदोलन’ से कर रहे सीएए का विरोध, घर के बाहर लिखा, ‘कागज नहीं दिखाएंगे’

Plz share with love

अहमदाबाद : सांप्रदायिक रूप से बेहद संवेदनशील माने जाने वाले गुजरात के अहमदाबाद में नागरिकता संशोधन कानून, एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ 45 दिनों से शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन जारी है।

यहां कई इलाकों में लोगों ने अपने घरों के बाहर प्लेकार्ड्स और बोर्ड्स लगा रखे हैं, जिन पर कागज नहीं दिखाएंगे लिखा हुआ है।अपने इस असहयोग आंदोलन के जरिए लोगों ने संकेत देने की कोशिश की है कि वह एनपीआर के लिए सर्वे करने आए अधिकारियों को किसी तरह की मदद नहीं करेंगे और उन्हें कोई जानकारी नहीं देंगे।

शहर के राखीलाल, बापूनग और सरसपुर में इस तरह के बोर्ड्स लगे दिखे हैं। ये सभी मुस्लिम बहुल इलाके हैं। कई घरों के बाहर लगे बोर्ड्स पर ऐंटी-सीएए, ऐंटी-एनआरसी और ऐंटी-एनपीआर नारों के अलावा यह भी लिखा है कि ‘यहां किसी भी तरह के सर्वे के लिए कोई सरकारी अधिकारी अंदर नहीं आना चाहिए।’

स्थानीय लोगों का कहना है कि यह नागरिकता कानून के खिलाफ उनका शांतिपूर्ण असहयोग आंदोलन है, जिसके जरिए वह अपना विरोध प्रकट कर रहे हैं।


Plz share with love

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]