उत्तराखंड : बाजपुर में पेड़ की जान बचाने का कार्य शुरू – उत्तराखंड

उत्तराखंड : बाजपुर में पेड़ की जान बचाने का कार्य शुरू

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

बाजपुर में लकड़ी तस्कर और भूमाफिया लगातार पेड़ों पर आर्य चलाकर पर्यावरण के संतुलन को बिगाड़ने पर तुले हैं लेकिन बाजपुर की क्लीन बाजपुर ग्रीन बाजपुर संस्था द्वारा लगातार वृक्षों को लगाने और उन्हें संजोए रखने के लिए कार्य किया जा रहा है।

जिसके चलते बाजपुर के पर्यावरण प्रेमी अमित सैनी ने दोराहा चौराहे पर वर्षों से लगे पेड़ को कटने से बचाने का प्रयास किया है। यही कारण है कि पेड़ को वर्तमान स्थल से रिप्लांटेशन के जरिए दूसरे स्थान पर लगाने का कार्य दिल्ली से आई टीम ने शुरू कर दिया है।

बता दें कि उच्च न्यायालय के आदेश पर बाजपुर के दोराहा चौराहे को चौड़ीकरण का कार्य स्थानीय प्रशासन ने शुरू किया था।

जिसके चलते स्थानीय प्रशासन ने अतिक्रमण अभियान चलाते हुए दो धार्मिक स्थलों को दूसरे स्थान पर स्थापित कर दिया था जिसके बाद दोराहा चौराहे के सौंदर्यीकरण के लिए कवायद शुरू की गई थी। जिसके बाद पीडब्लूडी विबहग द्वारा चौराहे पर करीब 100 वर्षो से लगे पेड़ को काटने का तय किया गया था। लेकिन बाजपुर के पर्यावरण प्रेमी अमित सैनी ने पेड़ को काटने की जगह अन्यत्र स्थान पर लगाने की वन विभाग और पीडब्ल्यूडी अधिकारियों से बात की। जिसके चलते अमित सैनी ने दिल्ली के पर्यावरण संरक्षण अभियान से जुड़े अजय नागर से पेड़ को रिप्लान्ट करने की बात की जिसपर अजय नागर पेड़ की जान बचाने के लिए जिम्मा उठाया है।

पर्यावरण प्रेमी अमित सैनी द्वारा पेड़ को बचाने के लिए किये गए प्रयास के बाद पर्यावरण संरक्षण अभियान से जुड़े अजय नागर अपनी टीम के साथ बाजपुर पहुचे ओर विशालकाय पेड़ को रिप्लान्ट करने की कार्यवाही शुरू की है। इस दौरान अजय नागर ने कहा कि अगर अमित सैनी जैसी सोच हर व्यक्ति सोचने लगा तो पर्यावरण सुरक्षित रहेगा और जनता भी। साथ ही उन्होंने बताया कि 2 माह में इस पेड़ को पुनः हरा भरा बना दिया जाएगा।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]