जो प्रदर्शन कर रहे हैं, उन्हें तो खुद पता नहीं कृषि कानूनों में दिक्कत क्या है?: हेमा मालिनी – भारत

जो प्रदर्शन कर रहे हैं, उन्हें तो खुद पता नहीं कृषि कानूनों में दिक्कत क्या है?: हेमा मालिनी

  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली: कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी है। बुधवार को 49वें दिन प्रदर्शनकारी तीनों कृषि कानूनों की कॉपी जलाएंगे।

इस बीच भाजपा सांसद हेमा मालिनी ने कहा है कि जो प्रदर्शन कर रहे हैं, उन्हें तो खुद पता नहीं कि वे क्या चाहते हैं और कृषि कानूनों में दिक्कत क्या है? इससे पता चलता है कि वे किसी के कहने पर प्रदर्शन कर रहे हैं।

हेमा ने कहा कि कृषि कानूनों के अमल पर रोक लगना अच्छी बात है, इससे मामला शांत होने की उम्मीद है। किसान कई दौर की चर्चा के बाद भी मानने को तैयार नहीं हैं। इससे पहले मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने तीनों कृषि कानूनों के अमल पर रोक लगा दी। साथ ही बातचीत से मुद्दा सुलझाने के लिए 4 एक्सपर्ट की कमेटी बना दी, लेकिन किसानों का कहना है कि कानून वापसी तक आंदोलन खत्म नहीं करेंगे।

किसान नेता राकेश टिकैत और डॉ. दर्शनपाल सिंह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की तरफ से बनाई गई कमेटी के चारों सदस्य नए कृषि कानूनों का खुलेआम समर्थन करते रहे हैं। ये सरकारी लोग हैं। इसलिए आंदोलन खत्म नहीं होगा, बल्कि 26 जनवरी को राजपथ पर ट्रैक्टर परेड की तैयारियां और तेज की जाएंगी।


  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]