दिल्ली में भाजपा की जितनी सदस्य संख्या, पार्टी को उतने भी नहीं मिले वोट

दिल्ली में भाजपा की जितनी सदस्य संख्या, पार्टी को उतने भी नहीं मिले वोट

Plz share with love

दिल्ली में हुए विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी 62 सीटों के साथ एक बार फिर सत्ता में आ गयी है।

भाजपा के तमाम दावों के बावजूद वह मात्र 8 सीटों पर सिमट गयी, हालांकि भाजपा के वोट प्रतिशत में जरूर बढ़ोत्तरी हुई है। मगर असल सवाल यह है कि क्या भाजपाइयों ने भी आम आदमी पार्टी को वोट दिये।

गौरतलब है कि इस बार दिल्ली में भाजपा को 35.6 लाख वोट मिले हैं, जबकि पार्टी का दावा है कि उसके दिल्ली में 62.28 लाख सदस्य हैं।

सबसे पहले समाचार पाने के लिए लाइक करें

इसका मतलब कि भाजपा के सदस्यों ने भी उसे वोट नहीं किये, अगर उसे पूरे भाजपा सदस्यों के वोट मिल चुके होते तो शायद दिल्ली की सत्ता भाजपा की झोली में होती।

दिल्ली विधानसभा चुनावों से पहले भाजपा के तमाम नेता-कार्यकर्ता अपनी चुनावी सभाओं के अलावा जगह-जगह यह प्रचारित कर रहे थे कि भाजपा के दिल्ली में 62.28 लाख सदस्य हैं, इसलिए उससे दिल्ली बहुत दूर नहीं है।

शायद इसी अति उत्साह में भाजपा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी चुनाव परिणाम वाले दिन और उससे दो दिन पहले चुनावों वाले दिन दावा कर रहे थे कि हम दिल्ली अपने नाम करने जा रहे हैं। ट्वीटर पर तो मनोज तिवारी ने घोषणा कर डाली थी कि मेरा ट्वीट संभाल कर रखना कि हम दिल्ली फतह करने जा रहे हैं।

भाजपा के दावों को सच मान लिया जाये तो इसका अर्थ है कि इस बार भाजपा के आधे से भी अधिक सदस्यों ने केजरीवाल की आम आदमी पार्टी को वोट दिये हैं।

न सिर्फ भाजपा बल्कि कांग्रेस द्वारा भी दावा किया जा रहा था कि उसके दिल्ली में 7 लाख से ज्यादा सदस्य हैं, मगर उसे भी मात्र 4 लाख वोट मिले, यानी उसके सदस्यों ने भी शायद उसे वोट न देकर अरविंद केजरीवाल को वोट किये हैं, नहीं तो ऐसा न होता कि कांग्रेस मात्र 4 लाख के आंकड़े तक सिमट जाती।


Plz share with love

अपने क्षेत्रीय और जनपदीय स्तर की सभी घटनाओ से जुड़े अपडेट पाने के लिए - सोशल मीडिया पर हमे लाइक, सब्सक्राइब और फॉलो करें -

फेसबुक के लिए यहाँ क्लिक करें

ट्विटर के लिए यहाँ क्लिक करें

यूट्यूब चैनल के लिए

Subscribe To Our Newsletter