नई पहल से गरीबों को मिलेगी राहत : रविदास समाज का मृत्युभोज नहीं करने का फैसला लिया , कहा ये समाज के लिए एक शाप है – भारत

नई पहल से गरीबों को मिलेगी राहत : रविदास समाज का मृत्युभोज नहीं करने का फैसला लिया , कहा ये समाज के लिए एक शाप है

The Netizen News

प्रखंड के ग्राम लूपुंग में वर्षो से चला आ रही रुढ़िवादी परंपरा मृत्यु भोज को रविदास समाज में नहीं करने का निर्णय लिया है रविदास समाज ने मृत्यु भोज का बहिष्कार करने को लेकर रविवार को समाज की एक बैठक बुलाई।

बैठक में समाज के अध्यक्ष राजेश राम व लुपुंग पंचायत के मुखिया दिलीप रविदास ने कहा कि मृत्यु भोज समाज के लिये अभिशाप है एक ओर जिस परिवार ने अपने प्रियजनों के जाने के दुःख व पीड़ा से गुजर रहा होता है।

वही उसके मृत्यु पर रुढ़िवादी परंपरा के अनुसार मृत्यु भोज का आयोजन करना एक अतिरिक्त आर्थिक बोझ बन जाता है सबसे बड़ी परेशानी उनके लिये होता है।

सबसे पहले समाचार पाने के लिए लाइक करें

जो अस्पताल में इलाज कराते हुए लाखो रुपए खर्च कर देते है और दुर्भाग्यवश यदि व्यक्ति की मौत हो जाती है तो उस स्थिति में मृत्यु उपरांत भोज का आयोजन उस परिवार को कर्ज के बोझ में डाल देता है।

मुखिया दिलीप रविदास का कहना था कि व्यक्ति की मृत्यु होने पर एक ओर दुःख तो दूसरी ओर जिह्वा को मृत्यु भोज कैसे भाता है।यह परंपरा बेमानी है।उन्होंने यह कहा कि रविदास समाज ने अपने समाज में मृत्यु भोज नहीं करने का निर्णय सर्वसम्मति से लिया है ।

बैठक में समाज के अध्यक्ष माघो राम, दिलीप रविदास, सुभाष रविदास, उमेश रविदास, प्रदीप रविदास, कार्तिक राम, सरोज रविदास, विकास रविदास, संत रविदास, सरोज रविदास, नाथूराम आदि उपस्थित थे।


The Netizen News

अपने क्षेत्रीय और जनपदीय स्तर की सभी घटनाओ से जुड़े अपडेट पाने के लिए - सोशल मीडिया पर हमे लाइक, सब्सक्राइब और फॉलो करें -

फेसबुक के लिए यहाँ क्लिक करें

ट्विटर के लिए यहाँ क्लिक करें

यूट्यूब चैनल के लिए

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]