गहलोत के राजभवन घेराव को संवैधानिक मर्यादा से ऊपर कहने वाले राज्यपाल कभी खुद राजभवन का घेराव किया था – भारत

गहलोत के राजभवन घेराव को संवैधानिक मर्यादा से ऊपर कहने वाले राज्यपाल कभी खुद राजभवन का घेराव किया था

कलराज मिश्र

The Netizen News

उत्तर प्रदेश में 1995 में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के सरकार थी .. कांग्रेस पार्टी से जुड़े महामहिम श्री मोतीलाल बोरा जी थे और भाजपा सत्ता से बाहर हो चुकी थी और वो इस ताक और जुगाड़ में थी कि कभी उन दोनों पार्टियों में अनबन हो जाये तो सरकार गिरा दी जाये।

आखिर 2 जून 1995 को वो दिन आ गया जब बसपा ने सपा से समर्थन वापस ले लिया और दोपहर तक गेस्ट हाउस में, जहां मायावती जी ठहरी थी वहाँ अफरा तफरी मच गयी तथा उसी समय भाजपा के वरिष्ठ नेतागण तथा उनकी अगुवाई करते हुए श्री कलराज मिश्र जी राजभवन में जाकर उनके बड़े हाल में बैठ गए और ये मांग करने लगे कि श्री मुलायम सिंह यादव जी की सरकार बर्खास्त कर दी जाये और जब तक सरकार बर्खास्त नहीं की जायेगी हम लोग यहीं धरने पर बैठे रहेंगे

आज समय बदल गया है।

सबसे पहले समाचार पाने के लिए लाइक करें

आज श्री कलराज मिश्रा जी भाजपा पार्टी से जुड़े हुए हैं और राजस्थान के राज्यपाल हैं। और वहाँ पर कांग्रेस के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी की सरकार हैं। मुख्यमंत्री श्री गहलोत जी सभी मंत्रिओं तथा विधायकों के साथ राज भवन में बैठे हुए हैं।

और वो लोग चाहते हैं कि तत्काल विधानसभा सत्र बुलाया जाये और जब तक आप आदेश नहीं करेंगे तब तक हम लोग यहीं धरने पर बैठेंगे .. आज वही भाजपा के वरिष्ठ नेतागण कह रहें हैं कि राज्यपाल और राजभवन की एक गरिमा होती हैं वहाँ पर किसी भी प्रकार धरना या प्रदर्शन नहीं करना चाहिए .. फोटो में .. भूतपूर्व मंत्री श्री कलराज मिश्रा जी भाजपा के कई मंत्रियों और कार्यकर्ताओं के साथ राज भवन में धरने पर बैठे हुए ..


The Netizen News

अपने क्षेत्रीय और जनपदीय स्तर की सभी घटनाओ से जुड़े अपडेट पाने के लिए - सोशल मीडिया पर हमे लाइक, सब्सक्राइब और फॉलो करें -

फेसबुक के लिए यहाँ क्लिक करें

ट्विटर के लिए यहाँ क्लिक करें

यूट्यूब चैनल के लिए

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]