गुरुग्राम सरकार की क्रूरता 600 परिवारों को नगरपालिका ने बेघर कर दिया। – News

गुरुग्राम सरकार की क्रूरता 600 परिवारों को नगरपालिका ने बेघर कर दिया।

The Netizen News

सरकार का लोकसभा चुनाव में बहुत बड़ा वादा था कि जहाँ झुग्गी वहीं मकान, लेकिन इसके विपरीत वर्तमान महामारी के समय में दिल्ली-एनसीआर सहित कई राज्यों में अवैध अतिक्रमण के नाम पर लोगों को बेघर किया जा रहा है। बेघर करके उन्हें सड़कों पर खुले आसमान के नीचे रहने को मजबूर किया जा रहा है।

नया मामला हरियाणा के गुरुग्राम का है जहाँ कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच, इस सप्ताह की शुरूआत में 600 परिवारों को नगर पालिका ने बेघर कर दिया। ये सभी परिवार लगभग 25-30 वर्षों से गुरुग्राम के सिकंदरपुर इलाक़े के आरावली क्षेत्र में रहते थे।

सरकार ने अपना वादा पूरा किया जहाँ झुग्गी वंही मकान तो देगी पर मकान किसका होगा ये नहीं पता ?

अपने टूटे आशियाने में अपने ज़रूरी सामने को ढूंढ रहे हैं और वो लगातर रोते हुए एक ही बात पूछ रहे हैं, ‘अब हम कहाँ जाए’ क्योंकि उनके पास पुनर्वास का कोई विकल्प नहीं है।

सबसे पहले समाचार पाने के लिए लाइक करें

जबकि क़ानूनी रूप से आप सामान्य स्थिति में किसी का भी घर पुनर्वास की व्यवस्था किये बिना नहीं तोड़ सकते हैं, लेकिन गुरुग्राम के अधिकारियों ने तो इस माहमारी के बीच ऐसा किया है। इस कृत्य को सामाजिक और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने सरकारी क्रूरता बताया।

नगर निगम अधिकारियों द्वारा इस तबाही को 27 जुलाई सोमवार को अंजाम दिया गया था। इस विध्वंस की सूचना उन लोगों को पहले नहीं दी गई थी।

मात्र एक दिन पूर्व एक चेतावनी नोटिस दिया गया जब श्याम झा बस्ती के 20 घरों को तोड़ दिया गया था। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ हरियाणा के गुड़गांव में स्थित सिकंदरपुर आरावली क्षेत्र में कुल 2000 झुग्गियां हैं, जिन्हें धीरे धीरे हटाया जा रहा है।

लोग स्थानीय विधायक से भी मदद मांगने के लिए उनके पास गए लेकिन वहां से भी निराशा ही हाथ लगी। उन्होंने कहा कि ये मामला ऊपर से है और वो इसमें कुछ नहीं कर सकते हैं। ऐसी ही एक निवासी प्रीति देवी थीं जिन्होंने बड़ी मुश्किल से इस मलबे के ढेर में से अपना लेबर कार्ड तो ढूंढ लिया। लेकिन शायद वो लंबे समय तक अपना आशियाना न ढूंढ पाएं।


The Netizen News

अपने क्षेत्रीय और जनपदीय स्तर की सभी घटनाओ से जुड़े अपडेट पाने के लिए - सोशल मीडिया पर हमे लाइक, सब्सक्राइब और फॉलो करें -

फेसबुक के लिए यहाँ क्लिक करें

ट्विटर के लिए यहाँ क्लिक करें

यूट्यूब चैनल के लिए

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]