भाजपा को घेरने के लिए विपक्ष का हथियार बन सकती है शिवसेना – महाराष्ट्र

भाजपा को घेरने के लिए विपक्ष का हथियार बन सकती है शिवसेना

The Netizen News

महाराष्ट्र में शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी सरकार का रास्ता साफ होने के बाद केंद्रीय स्तर पर व अन्य राज्यों में भी विपक्ष गठबंधन की संभावना जाता रहा है। संख्याबल के लिहाज से तो भाजपा को दोनों सदनों में ज्यादा असर नहीं पड़ेगा। लेकिन शिवसेना सत्ताधारी दल को असहज करने के लिहाज से विपक्ष की ढाल बन सकती है।

जानकारों की माने तो लोकसभा में भाजपा का अकेले दम पर स्पष्ट बहुमत है। वहीं राज्यसभा में शिवसेना के मात्र तीन सदस्य हैं। सत्ताधारी दल को मुद्दों पर आधारित समर्थन कई क्षेत्रीय दलों का मिलता रहा है।

इसलिए संख्याबल के लिहाज से नए समीकरण का बहुत असर सदन में नहीं पड़ेगा। लेकिन वैचारिक रूप से भाजपा के सबसे करीबी साथी के विपक्षी खेमे से जुड़ने के बाद भाजपा का कोर हिंदुत्व के एजेंडा की धार कुंद हो सकती है।

सबसे पहले समाचार पाने के लिए लाइक करें

ज्यादा असरदार तरीके से घेर सकेंगे

विपक्षी खेमे से जुड़े नेताओं का मानना है कि अभी तक भाजपा ज्यादातर मसलों पर विपक्ष की आलोचना को हिंदुत्व बनाम गैर हिंदुत्व की लड़ाई में बांट देती थी।

लेकिन शिवसेना के विपक्षी खेमे में होने पर वे हिंदुत्व की आड़ में मुद्दों पर जवाबदेही से नहीं बच पाएंगे। विपक्ष सरकार को मुद्दों पर ज्यादा असरदार तरीके से घेरने में सफल हो सकता है।

पहली बार कोर हिंदुत्व एजेंडा वाले दलों में दरार पड़ी

विपक्ष की ओर से बुधवार (27 नवंबर) को राज्यसभा में इसकी बानगी भी पेश की गई जब शिवसेना के अलग होने को लेकर तृणमूल कांग्रेस नेता डेरेक ओ ब्रायन ने आर्थिक स्थिति पर चर्चा के दौरान भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर कटाक्ष किया।

कई अन्य दलों से जुड़े नेताओं ने अनौपचारिक बातचीत में कहा कि अभी तक सरकार विपक्षी खेमे में दरार पैदा करके सेकुलर खेमे को बांटने का प्रयास करती थी।

अनुच्छेद 370 से लेकर तीन तलाक जैसे मुद्दों पर सदन में उसने अपनी इसी रणनीति के तहत राज्यसभा में अपना काम आसान किया। पहली बार कोर हिंदुत्व एजेंडा वाले दलों में दरार पड़ी है।


कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि महाराष्ट्र में मुद्दों पर आधारित सरकार चलेगी। इसका मॉडल खुद अटल बिहारी वाजपेयी ने पेश किया था जब उन्होंने केंद्र में घटक दलों का साथ लेकर बनाई गई सरकार में अपने कोर हिंदूवादी मुद्दों को नेपथ्य में डाल दिया था।

नेता के मुताबिक, अब भाजपा हिंदुत्व को ढाल नहीं बना सकती है उसे मुद्दों पर जवाब देना होगा। विपक्ष आने वाले दिनों में इसकी प्रभावी रणनीति बनाकर सत्ताधारी दल को कठघरे में खड़ा करेगा।


The Netizen News

अपने क्षेत्रीय और जनपदीय स्तर की सभी घटनाओ से जुड़े अपडेट पाने के लिए - सोशल मीडिया पर हमे लाइक, सब्सक्राइब और फॉलो करें -

फेसबुक के लिए यहाँ क्लिक करें

ट्विटर के लिए यहाँ क्लिक करें

यूट्यूब चैनल के लिए

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]