रायबरेली : योगी सरकार में पिट रहे पत्रकार खामोश है खाकी

रायबरेली : योगी सरकार में पिट रहे पत्रकार खामोश है खाकी

The Netizen News

हाल में ही उन्नाव जनपद के शुक्लागंज में जहां कुछ भू माफियाओं ने पत्रकार को गोली मारकर हत्या कर दी

पत्रकार का गुनाह यह था कि उसने अवैध कब्जे दारी को लेकर खबर प्रकाशित कर दी थी

कुछ ऐसा ही मामला रायबरेली जनपद के थाना नसीराबाद के ग्राम बीघा निवासी पत्रकार शिव शंकर वर्मा के साथ भी घटी है।

बताया जाता है कि पत्रकार ने 1 ग्राम प्रधान द्वारा सरकारी जमीन पर किए गए कब्जे दारी को लेकर खबर प्रकाशित कर दी थी

यही नहीं तहसील प्रशासन द्वारा कार्यवाही न किए जाने के बाद हाईकोर्ट तक पत्रकार को जाना पड़ा और आखिरकार तहसील प्रशासन ने जांच किया मामला सही पाया

सरकारी जमीन को अवमुक्त कराते हुए उस पर उगे फसल गेहूं को नीलाम करा दिया।

उधर हाल में ही तैनात थाना अध्यक्ष रविन्द्र सोनकर लगातार खनन माफियाओं से मिलकर अवैध रूप से खनन कराने में जुटे रहे

जिसे लेकर पत्रकार बार-बार मामले को प्रकाश में लाता रहा शायद यही वजह थी कि ग्राम प्रधान और थानाध्यक्ष की मिलीभगत से ग्राम प्रधान व उनके गुर्गों ने पत्रकार पर जानलेवा हमला कर दिया

और पत्रकार समेत उसके चाचा को अधमरा करके फरार हो गए।

थानाध्यक्ष खनन की खबर को लेकर रंजिश निकालने के लिए मामूली धाराओं में मुकदमा पंजीकृत किया

लेकिन सबसे बड़ा सवाल है कि जिले में बैठकर पुलिस के अधिकारी पत्रकार पर हुए जानलेवा हमले को लेकर संज्ञान नहीं लिया।

घटना 18 जून 2020 की है लेकिन अभी तक पत्रकार के हमलावरों पर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की है

इससे साफ होता है कि योगी सरकार में पत्रकार सुरक्षित नहीं है

फिलहाल अभी तक खाकी ने हमलावरों पर कोई कड़ा कदम नहीं उठाया।

संवाददाता मुकेश शाही रायबरेली


The Netizen News

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]