दिल्‍ली दंगा: हफ्तों तक प्‍लानिंग, सरकार के खिलाफ माहौल बनाया… पढ़ें 17 हजार पन्‍नों की चार्जशीट में क्‍या है। – News

दिल्‍ली दंगा: हफ्तों तक प्‍लानिंग, सरकार के खिलाफ माहौल बनाया… पढ़ें 17 हजार पन्‍नों की चार्जशीट में क्‍या है।

The Netizen News

दिल्‍ली दंगा मामले में पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने के 200 दिन के भीतर चार्जशीट दाखिल कर दी है। स्‍पेशल सेल ने बुधवार को 15 लोगों के खिलाफ 17,000 पन्‍नों की चार्जशीट अदालत को सौंपी।

कड़कड़डूमा की एक अदालत में ऐडिशनल सेशंस जज अमिताभ रावत के समक्ष पेश चार्जशीट में दावा किया गया है कि आरोपियों ने सिस्‍टमैटिक तरीके से भीड़ को मोबलाइज किया। हफ्तों तक प्‍लानिंग कर हथियार, पत्‍थर और बाकी चीजें जुटाई गईं। पुलिस ने 747 गवाहों से पूछताछ के बाद चार्जशीट दाखिल की है।

ऐंटी-सीएए प्रोटेस्‍ट्स के चेहरे हैं आरोपी

दिल्‍ली पुलिस ने जिन 15 के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की, वे सभी नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध-प्रदर्शनों का हिस्‍सा रहे हैं। चार्जशीट में युनाइटेड अगेंस्‍ट हेट के ऐक्टिविट खालिद सैफी, कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहां, आम आदमी पार्टी के पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन, राजद यूथ विंग के मीरान हैदर, पिंजड़ा तोड़ की गुलफिशा फातिमा, सफूरा जरगर, नताशा नरवाल और देवांगना कलिता के नाम शामिल हैं।

उमर खालिद, शरजील इमाम, दानिश, परवेज, इलयास और फैजल खान को पुलिस अरेस्‍ट कर चुकी है मगर चार्जशीट में नाम नहीं है। उनके खिलाफ सप्लिमेंट्री चार्जशीट फाइल की जाएगी।

दिल्‍ली पुलिस ने दंगों के दौरान हुए अपराधों के संबंध में 750 एफआईआर दर्ज की हैं। पुलिस ने अबतक 12 पिस्‍टल, 121 खाली खोखे, 92 जिंदा कारतूस, खतरनाक केमिकल से भरी 61 बोतलें और भारी मात्रा में तेज धार वाले हथियार बरामद किए हैं।

चार्जशीट में क्‍या कहा गया है?

दिल्‍ली पुलिस ने कहा कि 24 फरवरी को भड़की हिंसा के साजिशकर्ता मौके पर मौजूद लोगों के संपर्क में थे। अदालत के सामने पुलिस ने कहा, ‘उन 20 जगहों पर जहां ऐंटी-सीएए प्रदर्शन हो रहे थे, उनके लिए खास वाट्सऐप ग्रुप बनाए गए। प्रदर्शनों की आड़ में हिंसा भड़काने के लिए भीड़ को सिस्‍टमैटिक तरीके से मोबलाइज किया गया।’

पुलिस ने कहा कि दंगों और प्रदर्शनों के लिए पीएफआई समेत कई जगहों से पैसा आया था। हफ्तों तक हथियार, पत्‍थर, गोला-बारूद और छतों पर मोतोलोव कॉकटेल्‍स का इंतजाम किया गया। पुलिस के अनुसार, पूरी प्‍लानिंग के साथ हिंसा भड़काई गई।

आरोपियों की चैट्स कोर्ट में बनीं सबूत

दिल्‍ली पुलिस ने 747 लोगों के बयान सीआरपीसी की धारा 164 के तहत दर्ज कराए हैं। बयानों में गवाहों ने बताया है कि कैसे वॉट्सऐप ग्रुप्‍स का इस्‍तेमाल हिंसा भड़काने और दंगा करने में किया गया।

सबूत के तौर पर आरोपियों के पास से बरामद 75 इलेक्‍ट्रॉनिक डिवाइसेज का डेटा भी पेश किया गया है। इसमें आरोपियों के बीच हुए संदेशों का ब्‍यौरा है। दिल्‍ली पुलिस का कहना है कि 20 करोड़ रुपये से ज्‍यादा की प्रॉपर्टी के नुकसान का दावा किया गया है।


The Netizen News

अपने क्षेत्रीय और जनपदीय स्तर की सभी घटनाओ से जुड़े अपडेट पाने के लिए - सोशल मीडिया पर हमे लाइक, सब्सक्राइब और फॉलो करें -

फेसबुक के लिए यहाँ क्लिक करें

ट्विटर के लिए यहाँ क्लिक करें

यूट्यूब चैनल के लिए

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]