अब चीनी कंपनियों को US से निकालने की तैयारी, डिलिस्टिंग बिल पास।

अब चीनी कंपनियों को US से निकालने की तैयारी, डिलिस्टिंग बिल पास।

Plz share with love

कोरोना वायरस को लेकर अमेरिका अब चीन पर चौतरफा दबाव बना रहा है। आर्थिक मोर्चे पर अमेरिका एक के बाद एक चीन को झटका दे रहा है. अब अमेरिकी शेयर बाजार में लिस्टेड चीनी कंपनियों पर डोनाल्ड ट्रंप की टेढ़ी नजर है।

दरअसल अमेरिकी सीनेट में एक बिल पास किया गया है, जो दिखाता है कि अमेरिका किस कदर चीन को लेकर चिढ़ा हुआ है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना वायरस को पूरी दुनिया में फैलाने के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराया है।

ट्रंप लगातार चीन पर कोरोना का ठीकरा फोड़ रहे हैं और सबक सिखाने की भी बात कर रहे हैं। इसी कड़ी में अमेरिका एक के बाद एक फैसला चीन के खिलाफ ले रहा है। अब चीनी कंपनियों को अमेरिकन शेयर बाजार से डिलिस्टिंग करने के लिए अमेरिकी सीनेट में एक बिल पास किया है. हालांकि इसे लागू होने में अभी थोड़ा कानूनी दांव-पेच है।

कहा जा रहा है कि सीनेट में इस बिल का विपक्ष ने भी समर्थन दिया है। अमेरिकी के इस कदम से अमेरिकन शेयर बाजार में लिस्टेड चाइनीज कंपनियों के लिए मुश्किल खड़ी हो सकती है. बिल में कहा गया है कि अमेरिकी कंपनियों में निवेश को बढ़ावा देने के लिए ऐसा कदम उठाया गया है।

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक करीब 800 चीनी कपनियां अमेरिकन स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड हैं. अमेरिका के इस फैसले से अलीबाबा और बायडू (Baidu) जैसी बड़ी चीनी कंपनियों को झटका लग सकता है. यही नहीं, अमेरिका का यह कदम दुनियाभर के शेयर बाजारों के लिए बुरी खबर हो सकती है।

सके अलावा कई बड़े अमेरिकी फंड चीनी कंपनियों में निवेशक हैं, उन्हें भी झटका लग सकता है. क्योंकि कई चीनी कंपनियों अमेरिकी शेयर बाजार बेहतर प्रदर्शन कर रही है. जिसमें बड़े पैमाने पर अमेरिकी निवेश भी है. अमेरिका का कहना है कि घरेलू फंड को अब अमेरिकी कंपनियों पर फोकस करना चाहिए।


Plz share with love

Latest Post

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]