मजदूरों को गुजारे के लिए जरूरी है पैसा, रघुराम राजन बोले- सिर्फ अनाज देने से नहीं मिलेगी मदद, पैकेज से नहीं होगा फायदा

मजदूरों को गुजारे के लिए जरूरी है पैसा, रघुराम राजन बोले- सिर्फ अनाज देने से नहीं मिलेगी मदद, पैकेज से नहीं होगा फायदा

Plz share with love

भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने केंद्र सरकार की ओर से जारी किए गए करीब 21 लाख करोड़ रुपये के पैकेज को कोरोना के संकट से निपटने के लिए नाकाफी करार दिया है।

राजन ने कहा कि इस पैकेज में गरीब पलायन करने वाले मजदूरों के लिए राशन का इंतजाम किया है। लेकिन लॉकडाउन के दौरान बेरोजगार होने वाले लोगों को दूध, सब्जी, तेल और किराया देने जैसी जरूरतों के लिए कैश चाहिए। उन्होंने कहा कि दुनिया अब तक के सबसे बड़े आर्थिक आपातकाल का सामना कर रही है और इससे निपटने के लिए कोई भी संसाधन नाकाफी हैं।

आरबीआई के पूर्व गवर्नर ने कहा कि कोरोना वायरस के संकट से प्रभावित लोगों और कंपनियों को राहत देने के रास्ते तलाशे जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि इस पैकेज से अर्थव्यवस्था को उबरने में जरूरी मदद मिलती नहीं दिख रही। इसके अलावा लॉकडाउन से प्रभावित गरीब तबके के लोगों को भी इससे मदद नहीं मिल सकी है।

राजन ने कहा कि हमें उन जगहों पर अर्थव्यवस्था में सुधार करना चाहिए, जहां जरूरी है। इसमें एमएसएमई और बैंक भी शामिल हैं।

बता दें कि कोरोना के संकट से प्रभावित गरीबों की मदद के लिए सरकार ने प्रति व्यक्ति 5 किलो मुफ्त राशन देने और महिलाओं के जन धन खातों में तीन महीने तक 500 रुपये डालने का फैसला लिया है।

रघुराम राजन ने कहा कि पलायन करने वाले गरीब मजदूरों को सरकार ने राशन देने का फैसला लिया है, लेकिन यह काफी नहीं है। गरीब तबके के लोगों को सब्जी, दूध और तेल खरीदने के लिए पैसे चाहिए। किराया अदा करने के लिए भी कैश की जरूरत है।


Plz share with love

Latest Post

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]