20 फरवरी से खजुराहों में दिखेगी भारतीय कलाओं के अनेकों रंग

20 फरवरी से खजुराहों में दिखेगी भारतीय कलाओं के अनेकों रंग

The Netizen News

Lucknow : (Agency IANS)

पर्यटन नगरी खजुराहो में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर होने वाले वार्षिक नृत्य समारोह का आयोजन 20 फरवरी से शुरू हो रहा है। मध्य प्रदेश की विश्व प्रसिद्घ पर्यटन नगरी खजुराहो में बुधवार 20 फरवरी से खजुराहो नृत्य समारोह शुरू हो रहा है। यह नृत्य समारोह 26 फरवरी तक चलेगा।भारतीय नृत्य परंपरा के इस समारोह में इस बार नये आयामों को जोड़कर समूचे विश्व में भारत की सांस्कृतिक विविधता।

देश की विश्व प्रसिद्घ पर्यटन नगरी खजुराहो में बुधवार 20 फरवरी से खजुराहो नृत्य समारोह शुरू हो रहा है। यह नृत्य समारोह 26 फरवरी तक चलेगा।भारतीय नृत्य परंपरा के इस समारोह में इस बार नये आयामों को जोड़कर समूचे विश्व में भारत की सांस्कृतिक विविधता।

आधिकारिक तौर पर मिली जानकारी के अनुसार, संस्कृति विभाग द्वारा उस्ताद अलाउद्दीन खान संगीत एवं कला अकादमी और संस्कृति परिषद के सहयोग से आयोजित खजुराहो नृत्य समारोह 20 फरवरी से शुरू होकर 26 फरवरी तक चलेगा। इस समारोह में हर रोज शाम सात बजे से नृत्य संध्या शुरू होगी। इस समारोह के पहले दिन 20 फरवरी को दिल्ली की लिप्सा सत्पथी द्वारा ओडिसी, जयप्रभा मेनन द्वारा मोहिनीअट्टम और गुवाहाटी की मृदुस्मिता दास और साथी द्वारा सत्रिय नृत्य की प्रस्तुति दी जाएगी।

क्या है ? कार्यक्रम की रूप रेखा
इस समारोह के दूसरे दिन 21 फरवरी को दिल्ली की टी़ रेड्डी लक्ष्मी द्वारा कुचिपुड़ी, चेन्नई की नेहा बनर्जी कथक और दिल्ली के जन्मजय सांई बाबू साथियों के साथ मयूरजभंज छाऊ नृत्य की प्रस्तुति करेंगे। पुणे की कथक नृत्यांगना रूजता सोमण और दिल्ली की सुदेशना मौलिक और सोहेलभान कथक और भरतनाट्यम की युगल प्रस्तुति देंगे। सरोजा वैद्यनाथन एवं साथी भरतनाट्यम समूह नृत्य की प्रस्तुति देंगे।

इस समारोह के चौथे दिन 23 फरवरी को दिल्ली के एस़ वासुदेवन भरतनाट्यम, शालिनी खरे एवं रतीश बाबू कथक एवं भरतनाट्यम युगल और भुवनेश्वर के रतिकांत महापात्रा एवं साथी ओडिसी नृत्य पेश करेंगे। दिल्ली की कथक नृत्यांगना दुर्गा आर्य, कोलकाता की मोम गांगुली मोहिनीअट्टम और ग्वालियर का कथक समूह ‘मानव महंत’ और साथी 24 फरवरी को प्रस्तुति देंगे। भुवनेश्वर के राहुल आचार्य ओडिसी, दिल्ली की भास्वती मिश्रा एवं साथी कथक बैंगलुरू और कोलकाता के प्रबाल गुप्ता और अर्णब उपाध्याय 25 फरवरी को कथकली और ओडिसी युगल नृत्य प्रस्तुत करेंगे।

इस सामारोह के समापन दिवस 26 फरवरी को दिल्ली की स्निग्धा वेंकटरमणी भरतनाट्यम, कोलकाता की बिम्बावती देवी मणिपुरी समूह नृत्य, हैदराबाद एवं दिल्ली की मंगला भट्ट और कविता द्विवेदी कथक एवं ओडिसी युगल नृत्य प्रस्तुत करेंगी।


The Netizen News

2 thoughts on “20 फरवरी से खजुराहों में दिखेगी भारतीय कलाओं के अनेकों रंग

  1. This work reveals a type of poetic mood and everyone would simply be
    attracted by it. If this is a matter of yours too, then you certainly should learn regarding the best processes to procure
    such things. Matisse also became the king of the Fauvism and was famous within the art circle.

  2. It is common to discover the ornamental painting and sculptures with shapes
    depicting an appealing combination of different components from the artist’s religious, physical and cultural background.
    After the Bourbon Restoration, since the trial participant of Louis XVI, David was missing
    out on his civil right and property, and was expected to leave his
    homeland to in Brussels where David also completed many works, lastly died in a very strange land.
    The memorial also serves enormous events from all aspects of the globe.

Comments are closed.

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]