खुलासा : भारत-चीन के मंत्रियों की बातचीत से पहले भी हुई LAC पर गोलीबारी , पैंगोंग सो में हुई थी 200 राउंड फायरिंग – News

खुलासा : भारत-चीन के मंत्रियों की बातचीत से पहले भी हुई LAC पर गोलीबारी , पैंगोंग सो में हुई थी 200 राउंड फायरिंग

The Netizen News

भारत-चीन के बीच पूर्व लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा ( Line of Actual Control in Ladakh) में तनाव हर दिन बढ़ता जा रहा है. इस तनावपूर्ण हालात में भी दोनों देशों के बीच बातचीत का दौर जारी है।

इस बीच LAC पर फायरिंग को लेकर नया खुलासा हुआ है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, रूस के मॉस्को में 10 सितंबर को विदेश मंत्री एस. जयंशकर (S Jaishankar) और उनके चीनी समकक्ष वांग यी (Wang Yi) की मुलाकात से पहले पैंगोंग त्सो झील (Pangong Tso) के उत्तरी किनारे के नजदीक दोनों सेनाओं में गोलीबारी हुई थी।

यह फायरिंग 7 सितंबर से की चुशूल सब-सेक्टर की उस फायरिंग से भी भीषण थी, जिसके बारे में दोनों देशों की सेनाएं आधिकारिक रूप से बयान जारी कर एक-दूसरे पर आरोप लगा चुकी हैं।

मामले की जानकारी रखने वाले एक सरकारी अधिकारी के मुताबिक, यह घटना उस वक्त हुई, जब दोनों सेनाएं फिंगर इलाके में ज्यादा कब्जा करने के लिए गश्त कर रही थीं। अफसर ने बताया कि जिस जगह फिंगर-3 और फिंगर-4 का तल मिलता है, वहां पर दोनों पक्षों से 100-200 राउंड्स फायर किए गए।

बता दें कि अब तक इस घटना के बारे में न तो चीन और न ही भारत की तरफ से कोई खुलासा हुआ है, जबकि इससे पहले चुशूल सेक्टर में हुई फायरिंग की घटना पर दोनों देशों में तनातनी हुई थी।

एलएसी पर अब तक फायरिंग की तीन घटनाएं: जानकारी के मुताबिक, भारत और चीनी सेना के बीच लद्दाख स्थित एलएसी पर बीते एक महीने के अंदर ही तीन बार फायरिंग की घटना हो चुकी है, जहां चुशूल सेक्टर की फायरिंग के बारे में आधिकारिक बयान आए थे, वहीं इससे पहले अगस्त के अंत में मुकपरी में भी फायरिंग की एक घटना का खुलासा हुआ। अब विदेश मंत्रियों की बैठक से पहले पैंगोंग सो पर 100-200 राउंड्स गोलीबारी की घटना बेहद कम समय में ऐसा तीसरा मामला है।

अधिकारी ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि पहले एक छोटी घटना हुई थी, जिसके बारे में हमारे जवानों ने बताना जरूरी नहीं समझा। मुकपरी इलाके में हुई इस घटना में सिर्फ कुछ राउंड्स ही फायर हुए थे और एक दिन बाद हमें इसकी जानकारी मिली। लेकिन अब पैंगोंग सो के उत्तरी किनारे पर फिंगर-3 और फिंगर-4 को मिलाने वाले तल पर हवाई फायरिंग की घटना हुई है।

भारत के कदमों से बौखलाया है चीन: अफसर ने बताया कि 29-30 अगस्त को एलएसी पर ऊंची चोटियों पर कब्जा करने के बाद भारत फायदे वाली स्थिति में आ गया था। हालांकि, चीनी सेना लगातार भारतीय सेना को पीछे हटाने की कोशिश में जुटी है।

सितंबर की शुरुआत में भारतीय सेना पैंगोंग सो के उत्तरी किनारे पर अपनी पोजिशन बदल रही थी (चीनी सेना यहीं पर फिंगर-4 इलाके में मौजूद है)। इसी दौरान दोनों के बीच फायरिंग की घटना हुई। इस जगह पर दोनों सेनाएं महज 500 मीटर की दूरी पर मौजूद हैं।

हालांकि, मॉस्को में पहले रक्षा मंत्री और फिर विदेश मंत्रियों की बातचीत के बाद स्थितियां सामान्य हुई हैं। चीन के आक्रामक रवैये में कुछ कमी आई है, लेकिन वह अब भी फिंगर-4 पर ही मौजूद है। हालांकि, इस बीच दोनों देशों में तनाव कम करने के लिए चर्चा का स्तर ऊपर हुआ है। दोनों देशों में मिलिट्री कमांडर स्तर की बातचीत जारी रहेगी, लेकिन इसमें कोई बड़ा निष्कर्ष नहीं निकलेगा।


The Netizen News

अपने क्षेत्रीय और जनपदीय स्तर की सभी घटनाओ से जुड़े अपडेट पाने के लिए - सोशल मीडिया पर हमे लाइक, सब्सक्राइब और फॉलो करें -

फेसबुक के लिए यहाँ क्लिक करें

ट्विटर के लिए यहाँ क्लिक करें

यूट्यूब चैनल के लिए

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]