कोवैक्सिन को DCGI ने मंजूरी दी, हैदराबाद की कंपनी भारत बायोटेक ह्यूमन ट्रायल शुरू करने के लिए तैयार – भारत

कोवैक्सिन को DCGI ने मंजूरी दी, हैदराबाद की कंपनी भारत बायोटेक ह्यूमन ट्रायल शुरू करने के लिए तैयार

The Netizen News

देश में कोरोना की पहली वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ को हैदराबाद की फार्मा कंपनी भारत बायोटेक तैयार किया है। इसे इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे के साथ मिलकर बनाया गया है।

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने ‘कोवैक्सीन’ के ह्यूमन ट्रायल को मंजूरी दे दी है। इसके प्री-क्लीनिकल ट्रायल कामयाब रहे थे। इसके बाद इंसानों पर ट्रायल को मंजूरी दी गई है। यह ट्रायल जुलाई में शुरू होंगे।

हैदराबाद स्थिक भारत बायोटेक कंपनी ने बताया कि भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) और नैशनल इंस्टीट्यूट ऑफ विरोलॉजी (एनआईवी) के साथ मिलकर उसने कोविड-19 के लिए भारत की पहली वैक्सीन को सफलतापूर्वक विकसित किया है।

कंपनी ने कहा कि जुलाई महीने से इस वैक्‍सीन का इंसानों पर ट्रायल शुरू हो जाएगा। कंपनी की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया है कि सार्स-सीओवी-2 स्ट्रेन को पुणे स्थित एनआईवी में अलग किया गया और उसे भारत बायोटेक को हस्तांतरित किया गया।

हैदराबाद की जीनोम वैली में तैयार हुई वैक्सीन: भारत बायोटेक की ओर से जारी बयान के मुताबिक, वैक्सीन को हैदराबाद के जीनोम वैली के बीएसएल-3 (बायो-सेफ्टी लेवल 3) हाई कंटेनमेंट फैसिलिटी में तैयार किया गया है। 

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया, सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (सीडीएससीओ) और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने पहले और दूसरे चरण का ह्यूमन ट्रायल शुरू करने की मंजूरी दे दी है।

5 और भारतीय कम्पनियां वैक्सीन तैयार करने की कतार में 

भारत बायोटेक के मुताबिक, प्री-क्लीनिकल ट्रायल में वैक्सीन के नतीजे बेहतर मिले हैं। यह काफी सुरक्षित है। इम्यून रेस्पॉन्स को तेज करती है। बता दें कि भारत बायोटेक के अलावा देश की पांच और फार्मा कंपनियां वैक्सीन तैयार करने में लगी हैं।


The Netizen News

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]