गोरखपुर : पेंग्विन वाला देश का दूसरा चिड़ियाघर होगा गोरखपुर का शहीद अशफाक उल्ला खां प्राणी उद्यान – गोरखपुर

गोरखपुर : पेंग्विन वाला देश का दूसरा चिड़ियाघर होगा गोरखपुर का शहीद अशफाक उल्ला खां प्राणी उद्यान

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

गोरखपुर का शहीद अशफाक उल्ला खां प्राणी उद्यान, पेंग्विन की मौजूदगी वाला देश का दूसरा चिड़ियाघर हो जाएगा। अभी देश में मुम्बई के भायखला स्थित वीरमाता जीजाबाई भोंसले उद्यान और चिड़ियाघर (रानीबाग) ऐसा इकलौता चिड़ियाघर है।

गोरखपुर में पेंग्विन का अधिवास क्षेत्र बनाने के लिए एरिया चिह्नित कर लिया गया है। यहां हम्बोल्ट प्रजाति की पेंग्विन लाने की तैयारी चल रही है।

गोरखपुर को पर्यटन के राष्ट्रीय फलक पर पहचान दिलाने की मुख्यमंत्री योगी की मंशा के अनुरूप तेजी से काम चल रहा है। इस बाबत वन मंत्री दारा सिंह चौहान ने ज़ू प्रशासन को दिशानिर्देश दिए हैं।

शहीद अशफाक उल्ला खां प्राणी उद्यान के निरीक्षण के लिए रविवार को आए वन मंत्री दारा सिंह चौहान ने प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं विभागाध्यक्ष सुनील कुमार पाण्डेय के साथ प्राणी उद्यान परिसर में पेंग्विन को रखे जाने की संभावनाएं तलाश कीं।

प्राणी उद्यान में पेंग्विन एनक्लोजर बनाने के लिए प्रोजेक्ट मैनेजर डीबी सिंह एवं प्राणी उद्यान के निदेशक एच राजा मोहन को स्थान चिह्नित करने के निर्देश दिए।

डीबी सिंह ने वनमंत्री को उद्यान के अंदर संभावित स्थल दिखा भी दिया। यहां पेंग्विन के अधिवास के लिए केंद्रीय प्राणी उद्यान निदेशालय के मानक के अनुरूप कम से कम 1700 वर्ग फुट का एनक्लोजर बनाया जा सकेगा।

फिलहाल पेंग्विन के एनक्लोजर बनाने एवं रखरखाव पर आने वाले खर्च पर कार्यदायी संस्था राजकीय निर्माण निगम ने अध्ययन शुरू कर दिया है।

हम्बोल्ट प्रजाति के पेंग्विन रखे जाएंगे
फिलहाल गोरखपुर प्राणी उद्यान में पेंग्विन की ‘हम्बोल्ट’ प्रजाति रखी जा सकती है। इस प्रजाति के पेंग्विन 4 से 25 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर भी रह सकते है।

संभवत: यूरोपीय देशों से इन्हें लाया जाएगा। हेरिटेज एवियंस (हेरिटेज फाउंडेशन) के अनिल कुमार तिवारी बताते हैं कि 25-30 साल की औसत उम्रवाले ये पेंग्विन पर्यटकों के आकर्षण के मुख्य केंद्र होंगे। पेंग्विन अक्सर ठंड देशों में देखने को मिलते हैं।

देश में पहली बार मुंबई चिड़ियाघर में जन्मा पेंग्विन
मुंबई के भायखला स्थित वीर जीजामाता उद्यान एवं प्राणी संग्रहालय 15 अगस्त 2018 में चर्चा में आया, जब देश में पहली बार पेंग्विन का जन्म हुआ।

मिस्टर मॉल्ट और मादा पक्षी फ्लिपर की जोड़ी से इसका जन्म हुआ। इस प्राणी उद्यान में 26 जुलाई 2016 को विदेश से आठ हम्बोल्ट पेंग्विन लाए गए थे।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अपने क्षेत्रीय और जनपदीय स्तर की सभी घटनाओ से जुड़े अपडेट पाने के लिए - सोशल मीडिया पर हमे लाइक, सब्सक्राइब और फॉलो करें -

फेसबुक के लिए यहाँ क्लिक करें

ट्विटर के लिए यहाँ क्लिक करें

यूट्यूब चैनल के लिए

Latest Post

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]