तो क्या भारत एक सेक्युलर राष्ट्र नहीं रहा ?: ब्रिटिश थिंकटैंक ने भारत को चीन-तुर्की जैसे देशों संग रखा, कहा सेक्‍युलरिज्‍म पर हिंदू राष्‍ट्रवाद हावी। – विश्व

तो क्या भारत एक सेक्युलर राष्ट्र नहीं रहा ?: ब्रिटिश थिंकटैंक ने भारत को चीन-तुर्की जैसे देशों संग रखा, कहा सेक्‍युलरिज्‍म पर हिंदू राष्‍ट्रवाद हावी।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ब्रेक्जिट के बाद, भारत और यूनाइटेड किंगडम के रिश्‍ते एक तरह से रीसेट हो रहे हैं। इस बीच एक प्रमुख ब्रिटिश थिंकटैंक ने यूके सरकार को चेताते हुए कहा है कि वह भारत से ज्‍यादा उम्‍मीदें न रखे।

चैटम हाउस की नई रिपोर्ट कहती है कि “भारत को वह अटेंशन देनी चाहिए जिसका वो हकदार है, लेकिन यूके सरकार को यह स्‍वीकार करने की जरूरत है कि इस रिश्‍ते से सीधा फायदा, चाहे वह आर्थिक तौर पर हो या कूटनीतिक तौर पर, होना मुश्किल है।”

‘ग्‍लोबल ब्रिटेन, ग्‍लोबल ब्रोकर’ शीर्षक से छपी यह रिपोर्ट सवाल खड़े करती है कि क्‍या यूके अपनी ताकतों के बावजूद, दुनिया पर अपने कम होते प्रभाव को रोक पाएगा।

रिपोर्ट में भारत को उन चार ‘मुश्किल’ देशों की सूची में डाला गया है जो यूके लिए ‘प्रतिद्वंदी’ साबित होंगे। इसके अलावा भारत की घरेलू राजनीति को भी एक अड़चन बताया गया है।

‘भारत से उम्‍मीदें ज्‍यादा, असल फायदा कम’

अपनी रिपोर्ट में चैटम हाउस ने लिखा है कि यूके को ‘रणनीतिक फोकस में बदलाव’ लाने की जरूरत है। इसमें भारत को चीन, सऊदी अरब और तुर्की के साथ रखते हुए इन चारों को ‘डिफिकल्‍ट फोर’ बताया गया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिटिश सरकार को भारत के साथ मजबूत संबंध विकसित करने की दिशा में वास्‍तविकता समझते हुए लक्ष्‍य निर्धारित करने चाहिए।

रिपोर्ट कहती है, “यूके के लिए भारत जरूरी है… लेकिन अबतक यह साफ हो जाना चाहिए था कि भारत के साथ और गहरे रिश्‍तों का विचार हमेशा हकीकत से ज्‍यादा फायदे की बात करता है। ब्रिटिश शासनकाल की विरासत लगातार रिश्‍तों में बाधा बनती रही है।

इसके मुकाबले, अमेरिका भारत का सबसे अहम रणनीतिक साझेदार बन गया है। हाल के अमेरिकी प्रशासनों ने द्विपक्षीय सुरक्षा संबंधों को और मजबूत किया है जिससे यूके किनारे हो गया है।”

बीजेपी राज में कमजोर हो रहे मुस्लिमों के अधिकार: थिंकटैंक

रिपोर्ट में यहां तक कहा गया है कि भारत की ‘जटिल, बिखरी हुई घरेलू राजनीति ने उसे मुक्‍त व्‍यापार और विदेशी निवेश का सबसे ज्‍यादा प्रतिरोध करने वाले देशों में से एक बना दिया है।’

थिंकटैंक कहता है, “सत्‍ताधारी भारतीय जनता पार्टी का प्रत्‍यक्ष हिंदू राष्‍ट्रवाद मुसलमानों और अन्‍य अल्‍पसंख्‍यक धार्मिक समूहों के अधिकारों को कमजोर कर रहा है, जिससे ऐसी चिंताओं को बल मिला है कि नेहरू से विरासत में मिले एक सेक्‍युलर, लोकतांत्रिक भारत की जगह असहिष्‍णु बहुसंख्‍यकवाद ले रहा है।”

भारत के खिलाफ एक से एक टिप्‍पणियां

इस रिपोर्ट में प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की लोकतांत्रिक देशों का क्‍लब D10 बनाने की पहल की भी आलोचना की गई है। इसमें भारत को शामिल करने पर थिंकटैंक ने बेहद तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि है कि ‘D10 में भारत में इस वक्‍त शामिल करने से नीति या किसी संयुक्‍त कार्रवाई पर कोई सार्थक सहमति बनना मुश्किल हो जाएगा।

भारत का एक लंबा इतिहास रहा है कि वह ‘पश्चिमी’ कैंप में शामिल होने का प्रतिरोध करता आया है। उसने शीत युद्ध के समय गुटनिरपेक्ष आंदोलन का नेतृत्‍व किया और 2017 में औपचारिक रूप से चीन और रूस के नेतृत्‍व वाले शंघाई सहयोग संगठन (SCO) में शामिल हो गया।’


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]