भारत की जीडीपी ग्रोथ के 2.6 पर्सेंट पर सिमटने की आशंका।

भारत की जीडीपी ग्रोथ के 2.6 पर्सेंट पर सिमटने की आशंका।

Plz share with love

कोरोना वायरस संक्रमण लोगों की ही जान नहीं ले रहा बल्कि अर्थव्यवस्था को भी झकझोर रहा है। देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई की मुख्य आर्थिक सलाहकार सौम्या कांति घोष ने फाइनेंशियल ईयर 2020-21 में देश की जीडीपी ग्रोथ के 2.6 पर्सेंट पर ही सिमट जाने का अनुमान जताया है।

बीते 30 सालों में देश की जीडीपी का यह सबसे निचला स्तर होगा। इसके अलावा रेटिंग एजेंसी Crisil ने भी भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर अपने अनुमान में बड़ी कटौती की है।

एजेंसी ने भारत की जीडीपी ग्रोथ के 3.5 पर्सेंट पर ही ठहर जाने का अनुमान जताया है। इससे पहले एजेंसी ने आर्थिक ग्रोथ के 5.2 फीसदी रहने की भविष्यवाणी की थी।

कोरोना वायरस संक्रमण लोगों की ही जान नहीं ले रहा बल्कि अर्थव्यवस्था को भी झकझोर रहा है। देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई की मुख्य आर्थिक सलाहकार सौम्या कांति घोष ने फाइनेंशियल ईयर 2020-21 में देश की जीडीपी ग्रोथ के 2.6 पर्सेंट पर ही सिमट जाने का अनुमान जताया है।

बीते 30 सालों में देश की जीडीपी का यह सबसे निचला स्तर होगा। इसके अलावा रेटिंग एजेंसी Crisil ने भी भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर अपने अनुमान में बड़ी कटौती की है।

एजेंसी ने भारत की जीडीपी ग्रोथ के 3.5 पर्सेंट पर ही ठहर जाने का अनुमान जताया है। इससे पहले एजेंसी ने आर्थिक ग्रोथ के 5.2 फीसदी रहने की भविष्यवाणी की थी।

वैश्विक अर्थव्यवस्था में भी इसी गति से गिरावट की आशंका है और दुनिया की जीडीपी में भारत की हिस्सेदारी 3.5 पर्सेंट हिस्सेदारी की उम्मीद है।

देश के सबसे बड़े बैंक ने लॉकडाउन के चलते 70 फीसदी कारोबारियों गतिविधियों पर ब्रेक की आशंका जताई है।

यही नहीं खत्म होने जा रहे फाइनेंशियल ईयर 2019-20 की जीडीपी 5 पर्सेंट की बजाय सिर्फ 4.5 फीसदी पर ही ठहर जाने की आशंका है।

दरअसल मौजूदा वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में लॉकडाउन के चलते महज 2.5 पर्सेंट ही जीडीपी ग्रोथ का अनुमान है। इसके चलते पूरे साल की जीडीपी ग्रोथ प्रभावित होगी।

गौरतलब है कि पीएम नरेंद्र मोदी ने भी गुरुवार को कोरोना वायरस के मसले पर हुई जी-20 देशों के राष्ट्राध्यक्षों की वर्चुअल मीटिंग में कहा कि हमने अर्थव्यवस्था पर मानव जीवन को प्राथमिकता दी है।

बता दें कि अमेरिका ने कोरोना संक्रमण से 1,000 से ज्यादा लोगों की मौत के बावजूद लॉकडाउन नहीं किया है। अमेरिका के दिग्गज अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स ने राष्ट्रपति ट्रंप को भारत की तर्ज पर लॉकडाउन का सुझाव भी दिया है।


Plz share with love

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]