कोरोना काल में डिप्टी कलेक्टर ने सीएम रिलीफ फंड के नाम पर उगाए गए पैसे अब नहीं है कोई हिसाब – राजस्थान

कोरोना काल में डिप्टी कलेक्टर ने सीएम रिलीफ फंड के नाम पर उगाए गए पैसे अब नहीं है कोई हिसाब

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

जयपुर : प्रदेश में कोरोना के संक्रमण को रोकने और गरीबों की मदद के लिए प्रदेशवासी और कई भामाशाह सामने आ रहे हैं। लेकिन इसी बीच ऐसा एक खुलासा हुआ है, जिसने कई लोगों को आश्चचर्यचकित कर दिया है।

खबर सामने आई है कि कोविड-19 महामारी के नाम पर बस्सी के एसडीएम रामकुमार वर्मा ने सीएम रिलीफ फंड के नाम पर लोगों से रुपए इकट्ठे किए हैं। यह बताया जा रहा है कि एसडीएम वर्मा ने 85 लोगों से 32 लाख रुपए तक की राशि एकत्रित की थी।

राशि इकट्ठी करने के बाद एसडीएम ने उन्हें रसीद के नाम पर कच्ची पर्ची पकड़ा दी थी। साथ ही यह भी जानकारी सामने आई है कि वर्मा ने 10 लाख रुपए तक के ब्लैंक चेक साइन करवाकर इसी एवज में रख लिए थे।

दी गई रसीदें है अमान्य

इस संबंध में संभागीय आयुक्त के.सी. वर्मा का कहना है कि एसडीएम की ओर से 85 लोगों की 32 लाख रुपए की राशि एकत्रित की गई है। लेकिन किसी को भी सरकारी रसीद नहीं दी गई है। जो रसीद लोगों को दी गई है, वे प्रिटेंड रसीद हैं, यानी अमान्य है।

यह भी बताया गया है कि वर्मा ने मौखिक आदेश देकर लोगों से कोरोना से जुड़े काम भी करवाए हैं। साथ ही जिस समिति के जरिए काम करवाया गया हैं, वो अधिकृत नहीं है। संभागीय आयुक्त के.सी. वर्मा का कहना है कि इस संबंध में जिला कलेक्टर जयपुर डॉ. जोगाराम को सूचित कर दिया गया है और अब मामले की जांच चल रही है।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अपने क्षेत्रीय और जनपदीय स्तर की सभी घटनाओ से जुड़े अपडेट पाने के लिए - सोशल मीडिया पर हमे लाइक, सब्सक्राइब और फॉलो करें -

फेसबुक के लिए यहाँ क्लिक करें

ट्विटर के लिए यहाँ क्लिक करें

यूट्यूब चैनल के लिए

Latest Post

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]