आईआईटी कानपुर बना रहा पोर्टेबल और सस्ता वेंटिलेटर, कीमत होगी 70 हजार रुपये।

आईआईटी कानपुर बना रहा पोर्टेबल और सस्ता वेंटिलेटर, कीमत होगी 70 हजार रुपये।

Plz share with love

देश में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच कानपुर स्थित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) ऐसे पोर्टेबल वेंटिलेटर बना रहा है जो काफी सस्ते होंगे। बाजार में उपलब्ध ऐसी अन्य जीवन रक्षक मशीनें काफी महंगी हैं।

आईआईटी कानपुर के प्रोफेसरों का दावा है कि बाजार में इन्वेसिव वेंटिलेटर की कीमत करीब चार लाख रुपये है,जबकि उनके द्वारा विकसित वेंटिलेटर की कीमत 70 हजार रुपये आएगी।

इस वेंटिलेटर के सारे कल-पुर्जे भारत में ही बने हैं। संस्थान के दो छात्रों निखिल कुरुले और हर्षित राठौर ने आसानी से कहीं भी ले जा सकने वाले इस वेंटिलेटर का प्रोटोटाइप तैयार किया है। दोनों नोक्का रोबोटिक्स नाम से स्टार्टअप चलाते हैं।

आईआईटी कानपुर ने नारायणा इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियक साइंसेज,बेंगलुरु के चिकित्सकों समेत नौ सदस्यों का दल बनाया है जो प्रोटोटाइप पर मुहर लगाएगा। इसके बाद एक महीने में करीब एक हजार पोर्टेबल वेंटिलेटर तैयार किए जाएंगे।

आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर अमिताभ बंदोपाध्याय ने कहा- अमेरिका और इटली जैसे विकसित देश इस वायरस के संकट से जूझ रहे हैं जहां चिकित्सा की पर्याप्त सुविधाएं हैं, लेकिन भारत में बिल्कुल भी तैयारी नहीं हैं इसलिए एक महीने में वेंटिलेटर बनाने की कोशिश की जा रही है।

महिंद्रा महज 7,500 रुपये में बनाएगा वेंटिलेटर

महिंद्रा एंड महिंद्रा ने गुरुवार को कहा कि उसे एक ऐसा परिष्कृत वेंटिलेटर बना लेने की उम्मीद है, जिसकी कीमत महज 7,500 रुपये होगी। कंपनी ने कहा कि बैग वॉल्व मास्क वेंटिलेटर के उसके एक प्रतिरूप को तीन दिन में मंजूरी मिल जाने की उम्मीद है।

इसे बोल-चाल की भाषा में अंबु बैग कहा जाता है। महिंद्रा समूह के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने ट्वीट किया- हम आईसीयू वेंटिलेटर बनाने वाली एक स्वदेशी कंपनी के साथ भी मिलकर काम कर रहे हैं, हमारी टीम द्वारा तैयार यह उपकरण (अंबु बैग) आपात स्थिति में कुछ देर तक जीवन की रक्षा करने में सक्षम है, अनुमान है कि इसकी कीमत 7,500 रुपये से कम होगी।


Plz share with love

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]