हेल्थ एक्सपर्ट्स ने किया साफ- शुरू हो चुका है कम्युनिटी ट्रांसमिशन।

हेल्थ एक्सपर्ट्स ने किया साफ- शुरू हो चुका है कम्युनिटी ट्रांसमिशन।

The Netizen News

देश में कोरोनावायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। अब तक भारत में कोरोना के केस 1 लाख 91 हजार का आंकड़ा पार कर चुके हैं। पिछले एक ही दिन में भारत ने कोरोना के केसों में जर्मनी और फ्रांस दोनों को पीछे छोड़ दिया।

इनमें से आधे केस लॉकडाउन 4.0 के दौरान ही आए हैं। इस बीच कई रिपोर्ट्स में कहा गया कि भारत में चौथे फेज के दौरान कम्युनिटी ट्रांसमिशन के मामले शुरू हो गए हैं।

हालांकि, इस पर सरकार की तरफ से कुछ भी साफ नहीं किया गया। इस बीच अब हेल्थ एक्सपर्ट्स की एक टीम ने दावा किया है कि देश के कुछ हिस्सों में कम्युनिटी ट्रांसमिशन तेजी से फैल रहा है।

जिस टीम ने इस बात का खुलासा किया है कि उनमें ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) के हेल्थ एक्सपर्ट्स और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के दो रिसर्चर्स शामिल हैं।

इस टीम का कहना है कि देश में कुछ बड़े वर्गों और अलग-अलग इलाकों में रहने वाली जनसंख्या (सब-पॉपुलेशन) में फैलना शुरू हो गया। एक्सपर्ट्स ने दावा किया कि इस महामारी के खिलाफ कदम उठाने पर महामारी विशेषज्ञों की (एपिडेमियोलॉजिस्ट) की राय नहीं ली गई।

इस रिपोर्ट को सामने लाने वाली टीम में एम्स और आईसीएमआर के एक्सपर्ट्स के अलावा इंडियन पब्लिक हेल्थ एसोसिएशन, (IPHA), इंडियन एसोसिएशन ऑफ प्रिवेंटिव एंड सोशल मेडिसिन, (IAPSM) और इंडियन एसोसिएशन ऑफ एपिडेमियोलॉजिस्ट (IAE) के एक्स्पर्ट्स भी शामिल हैं। इस रिपोर्ट को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सौंपा जा चुका है।

रिपोर्ट में वैज्ञानिकों ने कहा है कि इस समय यह मानना काफी मुश्किल है कि कोरोनावायरस महामारी को इस स्टेज में ही खत्म किया जा सकता है। खासकर तब जब कम्युनिटी ट्रांसमिशन अलग-अलग क्षेत्र में आबादियों में फैल चुका है।

देश में लगे कड़े लॉकडाउन का एक फायदा यह हुआ कि इससे कोरोना के फैलने का समय बढ़ गया, जिससे इसके कर्व को फ्लैट किया जा सके और हेल्थकेयर सिस्टम पर अचानक ज्यादा बोझ न पड़े।


The Netizen News

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]