CAA, NRC और NPR ‘विभाजनकारी और भेदभावपूर्ण’ है: गोवा और दमन के आर्कबिशप

CAA, NRC और NPR ‘विभाजनकारी और भेदभावपूर्ण’ है: गोवा और दमन के आर्कबिशप

Plz. Share this on your digital platforms.
58 Views

पणजी: गोवा और दमन के आर्कबिशप फादर फिलिप नेरी फेराओ ने केंद्र सरकार से ‘तत्काल एवं बिना किसी शर्त’ के संशोधित नागरिकता कानून (CAA) वापस लेने और ‘असहमति जताने के अधिकार’ को दबाना बंद करने की अपील की है।

इसके साथ ही आर्कबिशप ने सरकार से राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR ) को देश भर में लागू ना करने की अपील भी की है।

गोवा गिरजाघर की एक शाखा ‘सोसाइटी फॉर सोशल कम्युनिकेशंस मीडिया’ ने शनिवार को एक बयान में कहा, ‘आर्कबिशप और गोवा का कैथोलिक समुदाय सरकार से भारत के लाखों लोगों की आवाज सुनने, असहमति जाहिर करने के अधिकार को न दबाने और इन सबसे अधिक संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को वापस लेने और एनआरसी एवं एनपीआर को लागू न करने की अपील करता है।

सबसे पहले समाचार पाने के लिए लाइक करें

गिरजाघर ने कहा कि सीएए, एनआरसी और एनपीआर ‘विभाजनकारी और भेदभावपूर्ण’ है और यह निश्चित तौर पर हमारे जैसे बहु-सांस्कृतिक लोकतंत्र पर ‘नकारात्मक और हानिकारक प्रभाव’ डालेगा।

Plz. Share this on your digital platforms.

अपने क्षेत्रीय और जनपदीय स्तर की सभी घटनाओ से जुड़े अपडेट पाने के लिए - सोशल मीडिया पर हमे लाइक, सब्सक्राइब और फॉलो करें -

फेसबुक के लिए यहाँ क्लिक करें

ट्विटर के लिए यहाँ क्लिक करें

यूट्यूब चैनल के लिए

Subscribe To Our Newsletter