छतरपुर शहर में एक साल में 700 हादसे, 249 की मौत, 624 घायल

छतरपुर शहर में एक साल में 700 हादसे, 249 की मौत, 624 घायल

Plz. Share this on your digital platforms.
221 Views

सड़क सुरक्षा समिति की बैठकों में हो रही खानापूर्ति, नहीं सुधरते हालात छतरपुर। जिला मुख्यालय पर यातायात प्रबंधन की बदहाल स्थिति और इसे सुधारने के लिए जिम्मेदार विभागों के बीच समन्वय की कमी के कारण आम जनता का खून सड़क पर बह रहा है।

हर तीन महीने में चाय-नाश्ते के साथ होने वाली सड़क सुरक्षा समिति की बैठक भी महज खानापूर्ति बनकर रह गई है। बैठकों में हर बार वही पुराने मुद्दे निर्देश बनकर अखबारों में छपते हैं लेकिन जमीन पर इन निर्देशों का पालन नहीं होता।

वर्ष 2019 में जिले में भर हुए 700 हादसों में 249 लोगों की जान चली गई जबकि 624 लोग घायल हुए हैं। इनमें से ज्यादातर हादसे जिला मुख्यालय और इसके आसपास के क्षेत्रों में हुए हैं।

सड़क सुरक्षा समिति के निर्देश जो आज तक नहीं हुए पूरे

  1. शहर में सातों दिन लगने वाले हाईवे के हाट बाजार बंद नहीं हुए।
  2. टैक्सियों के संचालन का रूट निर्धारण नहीं हुआ।
  3. बाजार में पसरा अतिक्रमण नहीं हटा।
  4. शहर में नए पार्किंग प्वाइंट नहीं खोजे जा सके।
  5. बाजार क्षेत्र में ऑटो का प्रवेश बंद नहीं हुआ।
  6. बगैर पार्किंग के विवाह घरों पर कोई कार्यवाही नहीं हुई।

सड़क पर भिड़ते वाहन, एक-दूसरे से झगड़ते अधिकारी
हम लगातार वाहन चैकिंग कर अवैध वाहनों के संचालन पर रोक लगा रहे हैं पिछले महीने 40 टैक्सियों के खिलाफ कार्यवाही की।

शहर में अतिक्रमण के कारण सड़कों पर जाम और हादसों के मामले सामने आते हैं इसके लिए नगर पालिका को आगे आकर अतिक्रमण हटाना चाहिए और पार्किंग प्वाइंट सुनिश्चित करने चाहिए।

प्रतिदिन लगने वाले हाईवे के हाट बाजार भी हादसों के कारण बनते हैं। आरटीओ ने 2013 से टैक्सियों के परमिट का नवीनीकरण नहीं किया जिससे बाहर के टैक्सी चालकों को खदेड़ पाना मुश्किल हो रहा है।
पूर्णिमा मिश्रा, यातायात प्रभारी

हमने यातायात पुलिस को पार्किंग प्वाइंट चिन्हित करके दिए थे। चौक बाजार के पास शिक्षा विभाग की पुरानी बिल्डिंग का मैदान, छत्रसाल चौक, अम्बेडकर तिराहा पन्ना नाका पर विधिवत पार्किंग करानी चाहिए यह काम यातायात पुलिस का है।

अतिक्रमण हटाकर सड़कों को चौड़ा करने व हाट बाजार को स्थानांतरित करने का काम चल रहा है। जवाहर रोड पर पेट्रोल पंप के बाहर दर्जनों वाहन खड़े रहते हैं इन्हें हटाने का काम किसका है?
अरूण पटैरिया, सीएमओ नगर पालिका छतरपुर

टैक्सी पर स्टीकर लगाने और उनके वैधानिक संचालन का काम यातायात पुलिस का है। यदि वे हमसे सहयोग मांगे तो हम सहयोग देने तैयार हैं।

वाहनों की संख्या बढ़ रही है इसके हिसाब से शहर की सड़कें छोटी पड़ रही हैं जिसके कारण हालात बदतर हो जाते हैं। सड़क सुरक्षा समिति की बैठकों के निर्देशों पर काम करते हैं।
सुनील राय सक्सेना, आरटीओ, छतरपुर

मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली तीन न्यायाधीशों वाली पीठ ने बुधवार को निचली अदालत के फैसले को प्रभावी ढंग से रखा, जिससे राजस्व कार्यालय को विदेशों से मामले की जानकारी लेने की अनुमति मिल सके। सुप्रीम कोर्ट ने अडानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड और अडानी पावर लिमिटेड को भी अपना पक्ष प्रस्तुत करने को कहा।

अडानी इंटरप्राइजेज लिमिटेड के चेयरमैन गौतम अडानी और कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर राजेश अडानी पर कथित तौर पर कंपनी के शेयर की कीमतों में धांधली का आरोप है।

Repport: Mursalim Khan

Plz. Share this on your digital platforms.

Subscribe To Our Newsletter