दुल्हन बनाकर पाकिस्तान की 629 लड़कियों को चीनी नागरिकों को बेचा

दुल्हन बनाकर पाकिस्तान की 629 लड़कियों को चीनी नागरिकों को बेचा

Plz. Share this on your digital platforms.
482 Views

पाकिस्तान में लड़कियों की तस्करी जोरों से चल रही है। पाकिस्तानी अधिकारियों ने देश के गरीब और कमजोर लोगों का शोषण करने वाले ट्रैफिकिंग नेटवर्क पर लगाम कसने के लिए पाकिस्तान से चीन भेजी गईं लड़कियों की एक सूची तैयार की है।

उसमें बताया गया है कि 2018 से लेकर अब तक 629 पाकिस्तानी लड़कियों को ‘दुल्हन’ के रूप में चीनी नागरिकों को बेच दिया गया और उन्हें चीन भी पहुंचा दिया गया। बता दें कि चीन के साथ अपने गहरे संबंधों के चलते पाकिस्तान लड़कियों की तस्करी में शामिल नेटवर्क पर लगाम कसने में सक्षम नहीं हो पा रहा है।

देश के गरीब एवं कमजोर लोगों का शोषण करने वाले मानव तस्करों के नेटवर्कों का भंडाफोड़ करने का संकल्प लेने वाले पाकिस्तानी जांचकर्ताओं ने यह सूची तैयार की है।

सबसे पहले समाचार पाने के लिए लाइक करें

यह सूची 2018 से मानव तस्करी के जाल में फंसी महिलाओं की सबसे सटीक संख्या उपलब्ध कराती है। लेकिन जून में यह सूची सामने आने के बाद से नेटवर्कों के खिलाफ जांचकर्ताओं के आक्रामक अभियान की रफ्तार अचानक थम सी गई।

जांच की जानकारी रखने वाले अधिकारियों का कहना है कि ऐसा सरकारी अधिकारियों के दबाव की वजह से हुआ है जो चीन से पाकिस्तान के लाभप्रद संबंधों को नुकसान पहुंचने से डरते हैं।

भाषा के अनुसार, मानव तस्करों के खिलाफ सबसे बड़ा मामला बंद हो गया। अक्टूबर में, फैसलाबाद की अदालत ने तस्करी के संबंध में चीन के 31 नागरिकों को बरी कर दिया था।

अदालत के एक अधिकारी और मामले की जानकारी रखने वाले पुलिस जांचकर्ता के मुताबिक पुलिस की ओर से की गई शुरुआती जांच में कई महिलाओं ने गवाही देने से इनकार कर दिया था क्योंकि या तो वह डरी हुईं थी या उन्हें चुप रहने के लिए पैसा दिया गया था। इन दोनों ने नाम उजागर न करने की शर्त पर यह जानकारी दी।     

एक इसाई कार्यकर्ता सलीम इकबाल ने कहा कि इसी वक्त, सरकार ने जांच बंद कराने का प्रयास किया, नेटवर्कों की जांच कर रहे संघीय जांच एजेंसी के अधिकारियों पर ‘अत्यधिक दबाव’ डालने की कोशिश की। इकबाल ने चीन से युवतियों को छुड़ाने और अन्य को चीन भेजे जाने से बचाने के लिए कई परिजनों की मदद की है। 

इस संबंध में घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले कई वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि मानव तस्करी की जांच धीमी हो गई, जांचकर्ता निराश हैं और पाकिस्तानी मीडिया पर इस मामले में रिपोर्टिंग बंद करने का दबाव डाला गया।

Plz. Share this on your digital platforms.

अपने क्षेत्रीय और जनपदीय स्तर की सभी घटनाओ से जुड़े अपडेट पाने के लिए - सोशल मीडिया पर हमे लाइक, सब्सक्राइब और फॉलो करें -

फेसबुक के लिए यहाँ क्लिक करें

ट्विटर के लिए यहाँ क्लिक करें

यूट्यूब चैनल के लिए

Subscribe To Our Newsletter