पिछले 5 साल में बैंक फ्रॉड के 38 आरोपी भारत से भाग गए – नई दिल्ली

पिछले 5 साल में बैंक फ्रॉड के 38 आरोपी भारत से भाग गए

The Netizen News

पिछले करीब पांच सालों में (1 जनवरी, 2015 से 31 दिसंबर 2019) आर्थिक अपराध कर 38 आरोपी देश से बाहर भागने में कामयाब हुए हैं। इन सभी पर बैंक से लोन लेने और फिर राशि को नहीं चुकाने के आरोप हैं।

सरकार ने सोमवार को एक सवाल के जवाब में ये जानकारी दी। इन भगौड़ों में विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चोकसी जैसे नाम भी शामिल हैं।

वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने एक सवाल के जवाब में बताया कि सरकार की सभी पर नजर बनी हुई है। दरअसल, सरकार से सवाल पूछा गया था कि क्या केंद्र के पास उन व्यापारियों सहित कोई डेटा है जो पिछले 5 वर्षों के दौरान धोखे से ऋण प्राप्त करने के बाद दूसरे देशों में चले गए हैं।

ठाकुर ने कहा, ‘CBI ने यह सूचित किया है कि बैंकों के साथ वित्तीय अनियमितताओं से संबंधित दर्ज मामलों में 38 लोग 1 जनवरी 2015 से 31 दिसंबर, 2019 के दौरान देश से बाहर भाग गए।’

ठाकुर ने लोकसभा में एक लिखित जवाब में कहा कि ऐसे मामलों में कानून के अनुसार कार्रवाई की जाती है।

साथ ही उन्होंने बताया कि प्रवर्तन निदेशालय ने पहले यह बताया था कि धन शोधन रोकथाम अधिनियम, 2002 के तहत, 20 आर्थिक अपराधियों के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस के लिए आवेदन दायर किए गए थे और 14 देशों में प्रत्यर्पण के अनुरोध भी भेजे गए हैं।

ठाकुर के अनुसार आर्थिक अपराधी अधिनियम, 2018 के तहत 11 व्यक्तियों के खिलाफ कार्यवाही जारी है। सरकारी आंकड़ों से ये भी संकेत मिलते हैं कि जनवरी 2019 और दिसंबर 2019 के बीच, 11 आर्थिक अपराधी देश से भागने में कामयाब रहे। जबकि जनवरी 2019 तक 27 आरोपी बाहर निकलने में कामयाब रहे थे।

वित्त मंत्रालय ने सदन को ये भी बताया कि एजेंसियों द्वारा शुरू की गई कार्रवाई के साथ अब व्यवसायियों और व्यक्तियों को धोखे से ऋण प्राप्त करने और फिर देश से भागने से रोकने के लिए नीतिगत उपायों को भी लागू किया गया है।


The Netizen News

अपने क्षेत्रीय और जनपदीय स्तर की सभी घटनाओ से जुड़े अपडेट पाने के लिए - सोशल मीडिया पर हमे लाइक, सब्सक्राइब और फॉलो करें -

फेसबुक के लिए यहाँ क्लिक करें

ट्विटर के लिए यहाँ क्लिक करें

यूट्यूब चैनल के लिए

Latest Post

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="319"]